Home Career Career Counseling : करियर काउंसलिंग क्यों जरूरी  है ?

Career Counseling : करियर काउंसलिंग क्यों जरूरी  है ?

Career Counseling

    Career Counseling : आजकल हर कोई किसी ना किसी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहता है, हर कोई चाहता है कि उसका कैरियर बहुत अच्छा बने | आप अपना करियर कैसे बनोगे  ये सवाल आप के दिमाग में स्कूल टाइम से ही आने लगता है कि आप क्या बनोगे,क्या करोगे और तब हमारे पास कोई जवाब नहीं होता है | हम सोचते हैं कि हम करेंगे अपना करियर किसमें बनाएंगे | पर आपका कैरियर आपके ही हाथ में होता है |

    ज्यादतर ये सवाल आप के सामने तब आता है जब आप दसवीं पास करते हो आप ये सोचते हैं कि दसवीं के बाद कौन सा स्टीम ले, मेरे दोस्त ये स्टीम ले रहे हैं तो मैं भी ये ही लू, माता-पिता जो बोल रहे हैं वह करू | समझ ही नहीं आता है क्या करें आपको पता है कितने ही ऐसे युवा हैं जिन्होंने इन्हीं सवालों में अपना करियर खराब कर दिया है, और अब पछताते हैं इसलिए जरूरी है कि आपको अपने करियर के चयन के लिए करियर काउंसलिंग(Career Counseling) की जरूरत होती है | 

आइए जानते हैं कि करियर काउंसलिंग क्यों जरूरी है | 

 

 करियर काउंसलिंग क्या है ?

     करियर काउंसलिंग ऐसी सेवा या सर्विस है जो किसी को भी उसकी कैरियर को बनाने में मदद करती है |  करियर काउंसलर से आपको पता चलता है कि आपकी रुचि किसमें है और आपको अपने लक्ष्य को पाने के लिए क्या कदम उठाने चाहिए | करियर काउंसलिंग कोई भी कर सकता है चाहे आप की पहली शुरुआत है |  या फिर आप कुछ समय बाद दोबारा से काम करना चाहते हो आप करियर काउंसलिंग(Career Counseling) से अपने पसंद के करियर में आगे बढ़ सकते हो | 

किसी को करियर काउंसलर कि जरूरत होती है ?



ये भी पढ़े

12 के बाद कौन से कोर्स करें

आईटी सेक्टर में कैसे बनाएं अपना करियर

10 ऐसी जॉब जिसमें आप भी अपना करियर बना सकते हैं



दसवीं के बाद छात्रों को 

    आपको तो पता ही होगा कि दसवीं के बाद सही स्ट्रीम को चुनना कितना जरूरी है | अगर आपने साइंस स्ट्रीम लिए तो आप कॉमर्स या आर्ट्स मैं स्विच कर सकते हैं पर अगर आप ने कॉमर्स चुना तो आप साइंस में नहीं जा सकते हो इसलिए जरूरी है कि आप सही स्टीम चुने जो आपके भविष्य के लिए सही हो इसलिए जरूरी है कि आप को करियर काउंसलिंग करानी चाहिए | करियर काउंसलार (Career Counseling) आपके कौशल,रूचि और क्षमताओं के आधार पर आपको सही स्टीम चुनने में मदद करेंगे | 

 

12वीं के बाद

     12वीं के बाद आप के लिए एक चुनौती सामने होती है कि अब किस और अपना कदम रखें अब और आगे क्या करें इस समय छात्र भारी तनाव में होते हैं |  क्या करें,कौन सा करियर चुने,जो कर रहे हैं वह उसके Career  के लिए सही है | समझ नहीं आता की graduate के लिए क्या करे अगर एक छात्र  इंजीनियरिं करने का फैसला लेता है तो उसमें कई सारी शाखाएं(branches) होती है अब उसको समझ नहीं आता कौन सी शाखा(branches) चुने | आप को अगर इन सब सवलो के जवाब चाहिए तो आपको इन का जवाब करियर काउंसलर ही दे सकता है | आपको कभी भी अपने  Career का फैसला किसी के दबाव या जल्दबाजी में नहीं लेना चाहिए ये आपके करियर का सवाल होता है तो सोच समझ कर करें ताकि आपको बाद में पछताना ना पड़े | 

अलग अलग लोगो के लिए 

  • अगर आप कोई काम कर रहे हो पर आप अपने काम को लेकर खुश नहीं हो और आप कुछ और करना चाहते हो | 
  • आप कहीं जगह अपना रिज्यूम दे चुके हो पर इंटरव्यू के लिए अभी तक कोई कॉल नहीं आई हो | 
  • आपको अपनी जॉब को छोड़े हुए लम्बा समय हो गया हो और आप दोबारा से जॉब करना चाहते हो और मार्केट का आपको कुछ भी पता ना हो | 
  • यदि आप अपने करियर में कुछ बड़ा करना चाहते हो तो भी आपको करियर काउंसलिंग की जरूरत होती है | 

         अगर आपको लगता है की आप अपने काम को लेकर अपनी लाइफ में खुश नहीं हो तो आपको करियर काउंसलर की जरूरत है क्योंकि खुशहाल Career  का मतलब खुशहाल जीवन होता है और अगर आप अपने काम को लेकर खुश नहीं है | तो आप अपनी लाइफ में खुश कैसे होंगे इसलिए जरूरी है कि आपको एक बार करियर काउंसलर के पास जाकर काउंसलिंग करानी चाहिए | 

करियर काउंसलिंग के फायदे क्या है ?

  • जब आपके करियर चुनने का समय आता है तो आप बहुत कंफ्यूज हो जाते हैं क्योंकि आज के समय बहुत से Career के ऑप्शन है और इसलिय आप कंफ्यूज हो जाते है | इसलिए Career Counseling जरुरी है आइए जानते है की Career Counseling के क्या फायदे हैं ?
  • करियर काउंसलिंग में आपका समय समय पर Aptitude टेस्ट होता है जिससे आपको अपनी बौद्धिक क्षमता (intellectual ability) का पता चलता है इससे आपको अपनी खामियों का पता चलता है | आपको यह भी पता चलता है कि आपकी क्षमता क्या है और आप में क्या काबिलियत है जिससे आप अपने करियर को बना सकते हैं |
  • जब छात्र अपनी पढाई पूरी कर लेता है तब वहां अपने करियर को लेकर कन्फ्यूज होता है| क्योंकि छात्र की उम्र सही Career चुनने की नहीं होती है | उनको पता नहीं होता है कि उसकी रूचि किस में है | उसको इसका ज्ञान नहीं होता है इसलिए वह कंफ्यूज होता है |
  • करियर काउंसलिंग में काउंसलर छात्रों को उनके करियर के लिए मार्गदर्शन करता है | काउंसलर को कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कौन हैं चाहे आप किसी पुलिस या इंजीनियर के बच्चे है या एक मजदूर के काउंसलर छात्र को उसकी काबिलियत पर सलाह देता है |
  • कुछ लोग होते हैं जिनको पता नहीं होता कि वह अपना करियर को कैसे करके आगे ले जाए उनको लगता है कि वह जो कर रहे हैं क्या वह उसके योग्य है भी या नहीं इस स्थिति में Career Counseling आपकी मदद करता है |
  • काउंसलिंग से आपको एक सपोर्ट और मोटिवेशन मिलता है जिससे आपको अपने ऊपर विश्वास हो जाता है कि आप जो कर रहे हैं वह आपके Career के लिए सही है और आप पूरी तरह से कॉन्फिडेंस हो जाते है |
  • काउंसलिंग से आपको अपनी कमजोरी और मजबूती का पता चलता है और आप अपनी कमजोरी को दूर कर सकते हैं आपको यह भी पता चलता है कि आप की मजबूती क्या है और कैसे आप अपनी मजबूती को अपने करियर बनाने में इस्तेमाल कर सकते है |