Home स्वास्थ Celiac Disease : सीलिएक रोग क्या है ? लक्षण, कारण और इलाज

Celiac Disease : सीलिएक रोग क्या है ? लक्षण, कारण और इलाज

Celiac Disease

 Celiac Disease : आज कल न जाने कितनी ही बीमारियाँ हो रही है | किसी न को कोई न कोई बीमारी हो ही रही ऐसे में एक और बीमारी है जिस के बारे में आप लोगो कम ही जानते होंगे वो है सीलिएक(Celiac) | आपको ये तो पात ही होगा की हमारा पेट ही है जो हमारे पुरे शरीर में उर्जा भेजने का काम करता है | हम जो भी कुछ खाते या पीते हैं वो सीधे हमारे पेट में जाता है और वहां से पाचन क्रिया के बाद उर्जा बनाकर रक्त और अन्य माध्यमों से हमारे पुरे शरीर को ताक़त देने का काम करता है |

     ऐसे में ये बात बिलकुल ही सही है की हमारा पेट हमारे शरीर का सबसे खास अंग है | हमारा पेट हमारे शरीर का सबसे खास अंग है और वहीं, हमारे पेट और पेट के अंग को सबसे ज्यादा समस्याओं का सामना करना होता है ,और इसी से कई बीमारियाँ होती है | सीलिएक रोग(Celiac Disease) भी पेट से जुड़ी एक ऐसी ही गंभीर बीमारी है | तो आइए जानते है इस बीमारी के बारे में जानते है की ये बीमारी क्या है इस के क्या लक्षण, कारण और इस का क्या इलाज क्या है ? 

सीलिएक रोग क्या है ?  celiac disease

        यह बीमारी एक ऑटोइम्यून स्थिति है जिसमे यह ग्लुटेन नाम के प्रोटीन के कारण होती है | इस बीमारी में पीड़ित व्यक्ति को एलर्जी और पेट की समस्या रहती है | आप को पता है की ग्लुटेन गेहूं के साथ चावल, मक्का, ज्वार व फलियों में पाया जाता है |  कई बार ऐसा होता है की ग्लुटेन के शरीर में पहुंचते ही मरीज को पेट की समस्याएं शुरू हो जाती हैं | यह रोग एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में भी फैल सकता है, जो की किसी भी उम्र में हो सकता है |

      आप को बात दे की इस  बीमारी को कुछ दवाएं भी जन्म देती हैं | सीलिएक रोग में ग्लुटेन खाने से आप की छोटी आंत को नुकसान होता है और जिससे भोजन से खनिजों और पोषक तत्वों को अवशोषित करने में समस्या हो जाती है | इस बीमारी वाले व्यक्ति द्वारा ग्लूटेन लेने से डायजेस्टिव ट्रैक्ट की आंतरिक झिल्ली क्षतिग्रस्त हो जाती है, जिससे पोषक तत्व अवशोषित नहीं हो पाते और पेट से संबंधित कई रोग होने लगते हैं जो आप के लिए जानलेवा हो सकती है |

      आप को बात दे की दुनिया भर में 100 में से लगभग 1 व्यक्ति को यह बीमारी है, और कई लोगों को तो यह पता भी नहीं होता है |  भारत में तो इस बीमारी को लेकर बहुत कम लोग जागरूक हैं | आप को बात दे की यह बीमारी जानलेवना नहीं है, लेकिन वक्त पर अगर इसका इलाज नहीं किया जाए, तो व्यक्ति को और दूसरी गंभीर बीमारी होने का खतराहो सकता है |  

सीलिएक बीमारी के लक्षण (celiac disease)

ग्लूटेन युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आंत से संबंधित कई लक्षण नजर आ सकते हैं, जैसे की :-

  • दस्त, जिसमें तेज दुर्गंध हो सकती है
  • पेट में दर्द
  • पेट फूलना (Abdominal Bloating) की समस्या
  • उल्टी (Vomiting) की समस्या
  • अपच (indigestion)
  • कब्ज (constipation)
  • थकान हो जाना
  • शरीर का ठीक से विकास न होना
  • बिना कोई मेहनत किये वजन घटने लगना 
  • लिवर संबंधित बीमारियां (Liver problem)
  • हडि्डयों की बीमारी (Bone related problems)
  • दांत में एनोमिल की दिक्कत (tooth discoloration or loss of enamel)
  • एनीमिया (खून की कमी)
  • दौरे पड़ना (Seizures)
  • स्किन डिसऑर्डर (Skin disorder)
  • बार-बार गर्भपात (Miscarriage)


ये भी पढ़े

नींबू की चाय के फायदे

व्हाइट टी क्या है ? यह चाय इतनी महंगी क्यों होती है?

अंडा खाने के फायदे और नुकसान



सीलिएक रोग के क्या कारण हैं ?

  • यह अभी तक पूरी तरह से पता नहीं है की यह बीमारी किन कारणों से होती है |
  • किस कारण से इम्यून सिस्टम इस तरीके से कार्य करता है, लेकिन इसमें आनुवांशिक (genetics) और पर्यावरणीय (environment) कारणों की एक भूमिका भी हो सकती है | 
  • कभी-कभी सर्जरी, गर्भावस्था, प्रसव, वायरल संक्रमण या गंभीर भावनात्मक तनाव के बाद भी सीलिएक रोग सक्रिय हो जाता है।
  • सीलिएक रोग ऑटोइम्यून (autoimmune) से जुड़ी एक बीमारी है जिसमें इम्यून सिस्टम  (immune system) गलती से स्वस्थ उत्तकों (tissue) पर हमला करने लगता है | 
  • सीलिएक रोग में इम्यून सिस्टम ग्लूटेन युक्त खाद्य पदार्थ को गलती से शरीर के लिए हानिकारक समझ कर उस पर हमला कर देता है |
  • इससे छोटी आंत (intestines) की परत को नुकसान पहुंचने लगता है और शरीर के द्वारा भोजन से पोषक तत्वों को अवशोषित (absorb) करने की क्षमता बाधित(Interrupted) हो जाती है |
  • यह पूरी तरह से अभी पता नहीं है की किन कारणों से इम्यून सिस्टम इस तरीके से कार्य करती है, लेकिन इसमें आनुवांशिक (genetics) और पर्यावरणीय (environment) कारणों की भूमिका नजर आती है |
  • सीलिएक रोग एलर्जी या ग्लूटेन को न सहन कर पाने से जुड़ी इनटॉलेरेंस (intolerance) नहीं है | 

 

किन लोगों को सीलिएक बीमारी का खतरा अधिक होता है ?

  •     महिला और पुरुष दोनों को इस रोग के होने की संभावना बराबर की होती है | यह किसी भी उम्र में जेनेटिक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर(genetic autoimmune disorder) हो सकता है | लेकिन निम्नलिखित कुछ ऐसे कारक हैं, जो इस रोग के विकास के जोखिम को बढ़ा सकते हैं | 
  • यदि परिवार में किसी को पहले से सीलिएक रोग(Celiac Disease) है तो यह आसानी से हो सकता है | जिन लोगों को सिलिएक रोग होता है उनके बच्चों में 5 से 10 प्रतिशत इस को होने की संभावना होती है | 
  • ऑटोइम्यून बीमारी होने से आपको और ऑटोइम्यून रोग होने की संभावना होती है, जैसे की सीलिएक, थायरॉइड और टाइप 1 मधुमेह आदि | 

सीलिएक रोग का इलाज कैसे किया जाता है ?

    जिन लोगों को भी सीलिएक बीमारी (Celiac Disease)है,  ग्लूटेन मुक्त भोजन खाना कहिये | उन को  गेहूं के अलावा, जिन खाद्य पदार्थों में ग्लूटेन होता है उनसे दूर रहना चाहिए | जैसे की :-  जौ, राई, गेहूं सहित फरिना, बेसन, सूजी, मैदा, कस कस और स्पेल्ट युक्त खाद्य पदार्थों से दूर रहना चाहिए |  साथ ही, आप को डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए  और यह जान लेना चाहिए कि और क्या-क्या खाद्य पदार्थों है जो आप को नहीं खाने चाहिए | साथ में आप को बाहर का खाना बंद कर देना चाहिए,और डिब्बाबंद खाना भी आप के लिए हानिकारक हो सकता है इसलिय आप को ये भी बंद कर देना चाहिए | 

 

      सीलिएक बीमारी(Celiac Disease) की अभी तक कोई दवा और इलाज नहीं है |  इससे होने वाली परेशानियों से बचने के लिए आप के पास एक ही तरीका है कि आप ग्लूटन फ्री डायट को फॉलो करें | आप जब ग्लूटन फ्री डायट लेंगे तो इससे आपकी छोटी आंत हील करेगी,और आप को भविष्य में होने वाली परेशानी और सूजन को होने से रोकने में मदद करेगी |  आपको यह ध्यान रखना है की आप को हर उस चीज को खाने से बचना है जिसमें भी गेहूं या गेहूं के आटे का इस्तेमाल किया गया हो |  बस आप को ग्लूटन खाने से बचना है,और आप को अपने डॉक्टर से मिलकर ये पता लगना चाहिए की आप को क्या करना चाहिए और क्या खान चाहिए | 

निष्कर्ष

     हम को उम्मीद है की आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा | इस आर्टिकल में हमने आप को सीलिएक बीमारी(Celiac Disease) से संबंधित जरूरी जानकारियां देने की कोशिश की है | उम्मीद है आप को इस से कुछ मदद मिल जाएगी | हम ने बस आप को कुछ ही जानकारी दी है | अगर आप को इन में से कोई भी लक्षण दिखे तो आप को तुरंत डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए | 

      मैं आशा करती हूँ कि आपको मेरा यह Article पसंद आया होगा | यदि यह Article आपको Helpful लगा हो तो आप इस आर्टिकल को शेयर जरूर कीजिये | इसके अलावा यदि आपको कोई बात समझ न आयी हो तो आप नीचे Comment भी कर सकते हो |