Home खबर Hafte ki khabar (weekly wrap up 19 to 25 July)

Hafte ki khabar (weekly wrap up 19 to 25 July)

hafte ki khabar

अगर आप के दिमाग में भी आ रहा है ऐसा ही ख्याल तो तो svamee है तैयार आपको पुरे Hafte ki khabar (weekly wrap up 19 to 25 July) बताने के लिए। खबरों का महत्व तो कौन नहीं जनता अगर अब भी दुविधा में हो तो ये वीडियो देखो।

इनके तो दादा जी डॉन थे आपका क्या आप सोच लीजिए ? चलिए डरिये मत पढ़िए Hafte ki khabar (weekly wrap up 19 to 25 July) :-

चलो शुरू Corona के साथ करते हैं
कोरोना का मामला अभी और भी बढ़ना है, अभी से हतियार ना गिराओ अभी तो और भी लड़ना है।

हथियार यानी “हाथ धोना , मास्क लगाना तथा उचित दुरी ” बना कर रखना। कुल मिला के अपनी सुरक्षा खुद करना।

कहीं साप्ताहिक तो कहीं पूरा लॉक डाउन करना है, ऐसे में देश की खराब अर्थव्यवस्था से भी लड़ना है। मरें तो गरीब मरें हमें क्यों डरना है ? कोई नेता कोई नियम बचा ना पायेगा, जो ‘बंटी अपनी स्लोव दिनचर्या ना चलाएगा’

बंटी से याद आया :-

हाथ धो लेना इसे पढ़ने के बाद, किसी चीज़ को छूने के बाद, बाजार से घर आने के बाद, अपनों से हाथ मिलाने के बाद।

अब इसका इलाज

पहले नेता जी का दिया हुआ :-

मंत्री जी का भी भाषण आया है, राम मंदिर से कोरोना ठीक होगा ये उन्होंने बतलाया है। बैठे सभी देश हैरान है, हमारे नेता जी भी कितने नादान है।

भया भक्ति अपनी जगह और समझ अपनी जगह , माना की भक्ति साहस देती है पर जान पे बन आये तो दवा ही बचा लेती है।

ऐसा ना होता तो भगवान श्री राम क्यों हनुमान जी को संजीवनी बूटी के लिए भेजते । क्यों ना ओम नमः शिवाय बोल के लक्ष्मण जी को बचा लेते । शायद उनको कुछ ज्ञान देना था, जो हमे ले लेना था। पर करें क्या हम तो अपने हिसाब से ही समझते और करते हैं। कोई कुछ भी समझाये हम तो फायदे की बात रख कर ज्ञान की बात भुला देते हैं।

“केंद्र सरकार को भी याद आया है, ढ़कन वाले (N 95 ) मास्क को वर्जित बतलाया है।”

जिस रफ्तार से CORONA फ़ैल रहा है उस से भी तेज़ी से भृम और फेक न्यूज़ फेल रही है और सही न्यूज़ तो बस रेंग-रेंग कर हम तो पहुंच रही है। ये पहली ऐसी घटना नहीं है आप अपने रोज़ मरा में भी देख सकते हो जो चीज़ें हम सोचते हैं किसी को पता ना चले वो हम से पहले सब को पता चल जाता है वहीं कुछ अच्छी खबर हो तो लोग ध्यान भी नहीं देते।

एक खबर जिस पर है सब की नज़र

ऑक्सफ़ोर्ड (Oxford) ने भी दावा पेला है, एक नई वैक्सीन (Vaccine ) से खाता खोला है। इस से तो इलाज होगा ऐसा सब को बोला है।

 बस कृपया हमें सपने ना दिखाइएगा करोनिल नाम की दवा बोल के प्रतिरक्षा बढ़ाने वाला चूर्ण न थमायेगा। पिछला कुछ याद आ गया था ,अपने खुद के दिए हुए जख्म। ये जख्म कारण है इस खबर का Hafte ki khabar (weekly wrap up 19 to 25 July) में टॉप पे जगह बनाने की। 

अब चलते हैं राजस्थान की तरफ

गहलोत और पायलट की लड़ाई अब कोर्ट तक जानी है, उसी के बीच वसुंधरा जी को भी अपनी छवि चमकानी है । न किसी गरीब पर ध्यान जाना है न बीमारी के बारे में कुछ बताना है, अभी CORONA से ज्यादा ज़रूरी सरकार को बचाना है। कपिल जी को भी सरकार का पक्ष बताना है, जो संविधान में नहीं है उसी बात का तो फायदा उठाना है।

जज :- क्या किसी को इस बात के लिए भी निकाल सकते हैं क्योंकि उसने संसद के बाहर किसी पार्टी में आने से मना कर दिया या आया नहीं

कपिल :- पता नहीं जनाब बहुत ढूंढा पर इसका जवाब कहीं मिला ही नहीं

ये खबर तो पता नहीं कब से Hafte ki khabar बनी हुयी है और पता नहीं कब तक बनती रहेगी

अब चल पड़ते हैं UP की तरफ जो आज कल हमेशा खबरों में रहता है :-

UP की कानून व्यवस्था भी खबरों में आनी है, एक के बाद एक लोगों को यहां जान गवानी है।अपनी बात सुनाने के लिए आत्म दाह की राह को अपनाना है, साम दाम दंड भेद कर के सरकार तक बात को पहुँचाना है।

इसी लिए मेने कहा था की ज़िंदा आदमी राख का और मुर्दा लाख का। पुलिस का कहना विपक्ष की पार्टी ने महिला को आत्म दाह के लिए उकसाया था ताकि सरकार की छवि खराब हो।

कर आत्म दाह ना की तो भी जान गवानी है, बदमशों ने न सुधरने की ठानी है। खुलेआम गोली मारकर दिखाना है, UP बहुत सुरक्षित है सब को बताना है।

अब चलते है बिहार की तरफ

जनता का प्रतिनिधि भी कहीं खोया है, जाने कहाँ सुशान सोया है। भगवान भरोसे लोगों को छोड़ा है, लोगों ने तो हॉस्पिटल के बाहर ही दम तोडा है। एम्स में भी इलाज ना होना है, VIP के लिए आरक्षित हर एक कौना है।

एक तरफ बाढ़ तो एक तरफ कोरोना से बेहाल बिहार की जनता, सरकार किसकी बनेगी कुछ लोगों को बस ये ही है चिंता।

हम तो दुआ करते हैं की इस Hafte ki khabar (weekly wrap up 19 to 25 July) पढ़ कर बाबू जागेंगे और बिहार को नई दिशा देंगे।

अब चलते हैं राजधानी की तरफ

सोनू पंजाबन को अब जेल जाना है, देह वव्यापार में लगे लोगों का जेल ही ठिकाना है। समाज के आतंकी वर्ग को बस ये ही सिखाना है।

अब मिडिया की तरफ

मीडिया भी खोया सा नज़र आया है, क्या कवर करें और क्या नहीं कुछ समझ ना पाया है। सोशल मीडिया ने मोर्चा संभाल रखा है , जो वीडियो वायरल हुआ सबने बस उसे ही चला रखा है। अब तो देश में इलाज भी # से ही मिलता है ,जहां चल गया वहाँ सब है नहीं तो RIP.

अब एक खरब जो मुझे अच्छी लगी और एक बेहरीन फैसला लगा

आर्मी में महिला प्रमोशन का नया कानून आया है. हम सब बराबर है ये सब को बताया है ।

काश ये बात हर कोई समझ पता तो जातिवाद का इतना भेद ना होता खुशियों से परे जाती वाद का डेरा है जाने क्यों सब को इस आडंबर ने घेरा है।

कुछ articles जो आप को पसंद आएंगे
 

CORONA A-Z

ज़िंदा आदमी राख का और मुर्दा लाख का

आप को Hafte ki khabar (weekly wrap up 19 to 25 July) कैसा लगा हमें जरूर बताएं और कौन सी खबर रह गयी वो भी कमेंट सेक्शन में जरूर लिखें।

#weekly wrap up , #weekly news, # this week , # badi khabar # ye hfta #ये हफ्ता #CORONA, #News #Svamee