Home रंग रूप Hair Transplant : हेयर ट्रांसप्लांट क्या है और यह कैसे होता है...

Hair Transplant : हेयर ट्रांसप्लांट क्या है और यह कैसे होता है ? 

Hair Transplant

आज कल लोगो की लाइफस्टाइल ऐसी हो गए है की उन के शरीर पर कोई न कोई बुरा असर हो ही रहा है ऐसे में चाहे वह स्किन हो या हेयर दोनों पर बुरा असर हो रहा है | आज कल लोगो में गंजेपन की समम्स्या ज्यादा हो रही है ऐसे में लोग हेयर ट्रांसप्लांट कर रहे है | हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant ) एक ऐसी सर्जरी है जो  बिना दर्द वाली है और इस से आप को गंजेपन से लगभग स्थायी रूप से सफल  मिलती है | हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant ) की सफलता दर लगभग 95% है | हेयर ट्रांसप्लांट को सुरक्षित सर्जरियों में से एक माना जाता है और यह भारत में काफी उचित कीमत पर उपलब्ध है | यह महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए ही असरदार सर्जरी है | तो आइए जानते है की हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant) क्या है और यह कैसे होती है ?

क्या है हेयर ट्रांसप्लांट ?

हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant) यानी की आप के सिर के जिस हिस्से में बाल नहीं है वहां पर सर्जरी कर के बाल लगना | इस में सिर पर डर्मेटोलॉजिकल सर्जन हेयर ट्रांसप्लांटेशन की मदद से हेयर ग्रो कराते हैं |  हेयर ट्रांसप्लाट का मुख्य उद्देश्य होता है की सिर पर बालों की संख्या में इजाफा या बालों को घना करना | हेयर ट्रांसप्लांट के टाइम दर्द से बचने के लिए लोकल एनेस्थिसिया का प्रयोग किया जाता है | यह एक सुरक्षित सर्जरी है | 

किन को हेयर ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है ?

यह जरुरी नहीं है की सब को हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant) करना हो यह सब के लिए सुरक्षित नहीं होती है | हेयर ट्रांसप्लांट उन्ही लोगो को कराने को कहा जाता है जिन में निम्नलिखित परेशानियाँ हो :-

  • हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant) की जरूरत उन लोगो को होती है जो गंजे होते है या उनके सिर पर बाल कम होते हैं | ऐसे लोगो को ही डॉक्टर हेयर ट्रांसप्लांट कराने की सलाह देते हैं |
  • हेयर ट्रांसप्लांट से पहले आप को डॉक्टर बाल झड़ने से रोकने की दवाई देते है पर अगर ये दवा असर न करे तो | 
  • जिनके लोगो के ज्यादा बाल झड़ते हो 
  • जिन्हें को सर्जरी के बाद किसी तरह की समस्या न हो
  • जिन पुरुषो को गंजापन हो  
  • जिन महिलाओं के ज्यादा बाल झड़ने या बाल पतले होने की समस्या होती है
  • स्कैल्प बर्न या स्कैल्प इंजरी के कारण जिन लोगों के बाल झड़ गए हैं

किन को हेयर ट्रांसप्लांट नहीं करना चाहिए 

हेयर ट्रांसप्लांट निम्न लोगों को नहीं करना चाहिए :-

  • जिन लोगो ने लंबे समय से दवाओं या कीमोथेरेपी से गुजरने के कारण अपने बाल खो दिए हो |  
  • जिन महिलाओं में बालों के झड़ने का पैटर्न होता है जो पूरे सिर या खोपड़ी में फैल जाता है  | 
  • जिन लोगों के पास पर्याप्त डोनर न हो | 
  • जिन्हें कभी चोट लगी हो और केलॉयड स्कार्स जिन्हें हो | 
  • गर्भवती महिलाएं को 
  • डायबिटीज के रोगी लोगो को 
  • हेपेटाइटिस और एचआईवी के रोगी को 
  • जिन को हृदय रोग हो 
  • यदि को मानसिक रोगी हो 
  • यदि कोई भी किडनी , लिवर या कोई क्रोनिक बीमारी से पीड़ित व्यक्ति हो 
  • 25 वर्ष से कम उम्र के महिला और पुरुष


ये भी पढ़े

बाल झड़ने का इलाज घर पर कैसे करे

डैंड्रफ के घरेलू नुस्खे

दाढ़ी कैसे बढ़ाए



हेयर ट्रांसप्लांट कैसे किया जाता है ?

जब आप हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant) करते है तो उस से पहले सर्जन गंजेपन के आधार पर हेयर ग्राफ्ट की संख्या निर्धारित करते हैं |  स्कैल्प की त्वचा के सबसे छोटे हिस्से को हेयर ग्राफ्ट कहते हैं जिसमे लगभग 3 से 4 बाल होते हैं | आप को बात दे की जितना ज्यादा गंजापन होता है हेयर ग्राफ्ट की आवश्यकता उतनी ही अधिक होती है | हेयर ग्राफ्ट में सिर के पीछे के बाल लिए जाते हैं, जहां से हेयर ग्राफ्ट लिए जाते हैं उस हिस्से को डोनर क्षेत्र कहा जाता है |  अगर सिर के पीछे पर्याप्त हेयर ग्राफ्ट नही मिल है तो  दाढ़ी, सीने, हाथ और पैर के बाल भी लिए जा सकते हैं | डोनर ग्राफ्ट को निकालने के लिए डर्मेटोम या स्कैलपेल की मदद ली जाती है | डोनर ग्राफ्ट को निकालने क्र लिए लोकल एनेस्थीसिया दी जाती है | 

 हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant) मुख्य रूप से दो प्रकार होती है |  पहला प्रकार फोलिक्युलर यूनिट ट्रांसप्लांटेशन (FUT) है और दूसरा फोलिक्युलर यूनिट एक्सट्रैक्शन (FUE) है | दोनों की प्रक्रिया के मुख्य चरण इस प्रकार से हैं:

 

फोलिक्युलर यूनिट ट्रांसप्लांटेशन ( FUT ) 

  • पहले एनेस्थीसिया देकर मरीज को आराम से लेटाया जाता है |
  • उसके बाद सर्जन डोनर क्षेत्र पर स्कॉलपेल की मदद से कुछ इंचों तक चीरा लगाते हैं और डोनर क्षेत्र की त्वचा को निकाल लेते हैं |
  • फिर खोपड़ी के पिछले हिस्से को सिल दिया जाता है |
  • निकाले गए स्कैल्प त्वचा को सर्जन और उनकी टीम कई भागों में बांटते हैं और हर भाग में लगभग 1 से 4 बाल होते हैं। हर भाग को चिकित्सीय भाषा में ग्राफ्ट  कहा जाता है |
  • अब ग्राफ्ट को गंजेपन वाली जगह पर चीरा लगाकर प्लांट कर दिया जाता है |
  • हेयर ट्रांसप्लांट के बाद धूप, इन्फेक्शन, प्रदूषण से बचने और घावों को भरने के लिए बैंडेज लगा दिया जाता है | 

फोलिक्युलर यूनिट एक्सट्रैक्शन (FUE)

  •  इस में स्कैल्प में चीरा लगाकर सीधे रोमकूप (pore) ( जिस छेद से बाल उगे होते हैं) को ही निकाल लिया जाता है और हर रोमकूप में एक बाल होते हैं | 
  • बाद में खोपड़ी के जिस हिस्से में ट्रांसप्लांट होना है वहां ब्लेड या सुई की मदद से छोटे – छोटे छेद किए जाते हैं | 
  • इसके बाद निकाले गए बालों को एक – एक करके छेद में प्लांट किया  जाता है | 
  • बालों को प्लांट करने के बाद सुरक्षा के लिए सिर में बैंडेज लगा दिया जाता है | 
  • हेयर ट्रांसप्लांट की प्रक्रिया करने में 4 घंटे या इससे भी अधिक समय लग जाता है | 

हेयर ट्रांसप्लांट(Hair Transplant) के बाद क्या क्या समस्य हो सकती है ? 

  • आप की सर्जरी वाली साइट पर संक्रमण (Infection) हो सकता है 
  • ब्लीडिंग हो सकती है 
  • खोपड़ी में सूजन आ सकती है 
  • खोपड़ी के उस स्थान पर क्रस्टिंग जहां से बाल निकाले गए है और जहां बाल लगये गए है | 
  • प्रत्यारोपण के स्थान पर सुन्नता या कम सनसनी हो सकती है |  
  • आप को खुजली हो सकती है  
  • फॉलिकुलिटिस (बालों के रोम का संक्रमण / सूजन)
  • प्रत्यारोपित बालों का अचानक से झड़ना

 

हेयर ट्रांसप्लांट में कितना खर्च आता है ?

अब बात आती है की हेयर ट्रांसप्लांट पर खर्च कितना आता है | इस में 30 हजार से एक लाख रुपये तक का खर्च आ सकता है | लेकिन ये और कई बातों पर भी निर्भर करती है | जैसे की FUT में प्रति ग्राफ्ट करीब 20 से 40 रुपये का खर्च आता है |  वहीं FUE तकनीक का खर्च थोड़ा ज्यादा होता है और विभिन्न अस्पतालों का अलग अलग खर्च होता है | 

निष्कर्ष

हम को उम्मीद है की आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा | इस आर्टिकल में हमने आप को हेयर ट्रांसप्लांट से संबंधित जरूरी जानकारियां देने की कोशिश की है | हम को उम्मीद है की आप को इस से कुछ मदद मिल जाएगी | हम ने बस आप को कुछ ही जानकारी दी है | अगर आप को इन में से कोई और जानकारी चाहिए तो आप को डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए | मैं आशा करती हूँ कि आपको मेरा यह Article पसंद आया होगा | यदि यह Article आपको Helpful लगा हो तो आप इस आर्टिकल को शेयर जरूर कीजिये | इसके अलावा यदि आपको कोई बात समझ न आयी हो तो आप नीचे Comment भी कर सकते हो