Home खबर CORONA A-Z

CORONA A-Z

अब क्योंकि lock-down खुल गया है तो CORONA का खतरा भी बढ़ गया और आंकड़े भी बहुत ऊपर चले गए हैं । अब CORONA के बारे में सब कुछ जान लेना बहुत ज्यादा जरूरी है। चलिए अब जानते CORONA A-Z  यानि CORONA से जुड़ा हर एक सवाल और उसका जवाब।  
 

यहाँ हम कुछ बहुत ही जरूरी सवालों के जवाब ढूंढेंगे।

अंत में आप बताइयेगा क्या लगता है आगे क्या होगा ?

साथ ही हमें comment section में बताएं की हमने क्या छोड़ दिया है

CORONA और SARS क्या है ?

 
‘CORONA VIRUS’ बीमारी का नाम है और यह बीमारी जिस VIRUS से फैलती है उस VIRUS का नाम है ‘SARS-CoV-2 (Severe acute respiratory syndrome coronavirus 2)’.
 
यह Virus व्यक्ति के फेफड़ों को संक्रमित करता हैइसके कारण व्यक्ति को सांस लेने में दिक्कत पेश आती है। इसके दो मूल लक्षण होते हैंबुख़ार और सूखी खांसी”।
CORONA के कारण होने वाली खांसी बलग़म नहीं आता है।
 अंतः अगर आप को बुखार है, तो घबराएं नहीं पहले घर पर ही जाँच लें की यह बुखार है या CORONA

लक्षण

 

यदि आप निम्नलिखित सभी लक्षणों से पीड़ित हैं तो यह संभवतः CORONA का संकेत है

  • Stage 1 (कम खतरा )
    बुखार
    सूखी खाँसी
    थकान

  • Stage 2 ( समान्या  खतरा )
    मांसपेशी में दर्द एवं पीड़ा
    गले में खराश
    दस्त
    सरदर्द
    स्वाद या गंध महशुश ना होना

  • Stage 3 (उच्च जोखिम )
    सांस लेने में कठिनाई
    सीने में दर्द या दबाव
    बोलने या शारीरक कार्यों को खोना

    Stage 1 :- ये नार्मल बुखार भी हो सकता है। अन्तः घर पर रहें और अपना ध्यान रखें।
    Stage 2 or Stage 3:- तुरंत डॉक्टर से बात करें


कैसे फैलता है CORONAक्या यह हवा में भी फैलता है ?

आप को क्या लगता हैं क्या यह हवा में फैलता है ?

तो चलिए बता दें की ये हवा में नहीं फैलता पर क्यों ?

यह वायरस हवा से भारी है, इसलिए यहहवा में यात्रा नहीं ” करता है

यह जीवित रहने के लिएसतह”  पर रहता (surface) है। जब कोई उस सतह कोस्पर्श” करता है। तो यह उस व्यक्ति के शरीर (बाहरी हिस्सों में )पर लग जाता है  जैसे हाथों पे 

यदि वह व्यक्ति किसी भी तरह सेउस हाथ  से  , अपने मुंह, नाक या आंखों कोस्पर्श करता है, तो वायरस उस व्यक्ति के शरीर में स्थानांतरित हो जाता है।

उसके
बाद अगर वह व्यक्ति खांसता या छींकता है तो कोरोना फिर से किसी अन्य सतह पर पहुंच जाता है।

इस लिए आप से रुमाल इस्तेमाल करने का आग्रह किया जाता है।

अन्तः अगर आप पूरी सतर्कता के साथ अपना काम करते हैं या अपनी रोज़मर्रा का जीवन व्यतीत करते हैं तो आप के बीमार होने की संभावना बहुत कम है।


Lockdown क्या है ? क्यों जरूरी है ? क्या बिना lockdown के भी CORONA से निपटा जा सकता है ?

क्या आप को लगता है दोबारा lock down लगना चाहिए ? वैसे होता क्या है इस से ? आप अपने जवाब comment section में जरूर दें।

Lockdown क्या है :-यह एक ऐसा प्रबंधन है जो लोगों को एक जगह से दूसरी जगह आने जाने नहीं देता , जब लोग एक जगह से दूसरी जगह नहीं आ जा सकते तो यह virus भी एक ही जगह पे रह जाता है।

जब virus एक जगह पे ही रहता है तो इसकी ‘chain (कड़ी ) ‘ टूट जाती है और लोग इसकी चपेट में नहीं आते। इस से CORONA के मरीज़ कम हो जाते हैं।

ध्यान दें कम हो जाते हैं…….

क्यों जरूरी है Lockdown :-

Lockdown ज़रूरी है क्योंकि यह वायरस की कड़ी तोड़ देता है और इसे आगे फैलने से रोकता है।

क्या बिना इसके भी निपटा जा सकता है ?

तो मैं पहले ही बता दूँ की यह बस एक उपाय है इस बीमारी को कम करने के लिए। बीमारी का उपचार तो बस इसकी दवाई के बाद ही होगा।

हाँ बिना Lockdown के भी हम इस Corona से लड़ सकते हैं।

– हमेशा मास्क पहन के घर से निकलें
– बार बार आँख कान नाक या चेहरे को ना छुएं
– बार बार हाथ धोएं या sanitizer से साफ करते रहें
– किसी वस्तु को छूने से बचें
– भीड़ में ना जाएँ – दूरी बना के रखें
– खाने पीने का ध्यान रखें
– नियमित योग exercise करें

क्या है MASK का उपयोग ? कैसे करें MASK को dispose (नष्ट ) ? कितनी बार कर सकते हैं एक MASK का उपयोग ? कैसे उतारें MASK ?

सब बोल तो रहे हैं मास्क लगाओ पर लगा कोई नहीं रहा आप को क्या लगता है मास्क लगाएं या नहीं ?

क्या है MASK का उपयोग :-

MASK बाहर से आ रहे Virus को हमारे नाक और मुहं में नहीं जाने देते।

जैसे पहले भी बताया था की virus हवा में नहीं फैलता पर अगर कहीं हम गलती से किसी संक्रमित व्यक्ति के पास चले जाते हैं तो यह उससे आ रहे VIRUS से हमें बचाता है।

जब भी कोई छींके या खांसे तो वायरस हमारे रुमाल में ही लग जाता है इस तरह हम बच जाते हैं।

कैसे करें MASK को dispose (नष्ट ) ;-

यह बहुत अहम सवाल है क्योंकि आज सड़क पर हर जगह मास्क ही मास्क पड़े होते हैं, जो हमारे पर्यावरण के लिए खतरनाक साबित होगा।

साथ ही यदि आप उन्हें ऐसे ही फेंक देते हैं तो जो सफाई कर्मचारी उसे उठाते हैं या गलती से उन्हें छूं लेते हैं तो उनके बीमार होने की संभावना बढ़ जाती है।

अन्तः Mask को हमेशा कूड़ेदान में एक लिफाफे में ही बंद कर के फेंकें ।

कैसे उतारें MASK ? :-

Mask को हमेशा कान की तरफ से उतरें और ध्यान रखें की ये आप के आँखों को या त्वचा को ना छू पाए साथ ही उसे उतार कर ध्यान से रखें।

कितनी बार कर सकते हैं एक MASK का उपयोग ?

जो मास्क मार्किट में बिक रहें हैं वो “एक या दो बार” ही इस्तेमाल किये जा सकते हैं।

इसलिए में हमेशा घर पर बने मास्क की ही सलाह देता हूँ। फायदे ये है की एक तो पर्यावरण सुरक्षित रहता है दूसरा आपकी जेब। इस मास्क को आप धो भी सकते हैं।

धोने के लिए गरम पानी और साबुन का इस्तेमाल करें और सूखा दें।

कब जायेगा CORONA

कब जायेगा CORONA :- कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा इस सवाल के जवाब के बाद अब यह सवाल नंबर 1 पर बना हुआ है। आखिर कब जायेगा CORONA ?

तो बता दें CORONA दो ही स्थिति में जा सकता है ;-

a ) कृत्रिम तरीका :- यदि इस बीमारी का टीका मिल जाता है तो सब को टीका लगा के उनके शरीर में एंटीबॉडी बनाएंगे और बीमारी खत्म।

b ) प्राकृतिक तरीका :- यदि लम्बे समय तक इस बीमारी का इलाज नहीं मिला तो हमारी बॉडी खुद ही एंटीबॉडी बना लेगी और इस वायरस को हरा देगी ।

पर हम बहुत से लोगों को खो देंगे और बहुत से लोगों को खोने का डर हमेशा हमारे मन में रहेगा।

किसका हे दावा CORONA से निज़ाद का

हर देश की कंपनियां इस समय बस इलाज ही तलाश रहे हैं। बहुत सी कंपनी हैं जो दावा कर रही हैं की उनके पास इसकी दवा हे और वो बहुत ही जल्द इसे बाजार में उतर देंगे पर अभी ऐसी कोई पुष्टि हुयी नहीं है।

Oxford vaccine :- इसका तो मरीज़ों पे test भी हो चुका है।

पर अब ये होल्ड पे है क्योंकि  इस vaccine से U.K में एक volunteer की रीढ़ की हड्डी की चोट बढ़ गयी थी।

Germany vaccine :- यह सब कुछ ठीक रहा तो इस year end तक बाजार में आ जाएगी।

ऐसे ही दुनिया भर में 170 से ज्यादा trail चल रहे हैं। उम्मीद करते हैं जल्द ही निजाद मिले। तो भी इस साल तो ऐसा लग नहीं रहा।

बाकि आप इस लिंक से और information ले सकते हैं।

क्या थी ज़िन्दगी इस काल से पहले , क्या हे अभी, और क्या होगा आगे ?

CORONA से पहले ज़िंदगी की रफ्तार बहुत तेज़ थी। लोगों के पास समय ही नहीं था, कुछ करने का कुछ सोचने का बस लगे हुए थे।

बस भाग सी रही थी ज़िंदगी जाने कहाँ कभी यहां कभी वहां

किसी को कुछ नहीं पता था आधे लोग तो कुछ ऐसा कर रहे थे जिनमे उनका मन भी नहीं था। लोगों को लग रहा था वो सम्पन हैं।

लग रहा था हम बहुत आगे हैं और बस आगे ही जा रहे हैं और चले जा रहे हैं। पर जब परीक्षा की बारी आयी तो सब fail।

CORONA काल के दौरान

CORONA काल के दौरान बहुत सी समस्याऐं आयी लोग बरसों पीछे चले गए जहां न गाड़ी हुआ करती थी और न कोई साधन बस पग यात्रा होती थी, तो लोग पैदल ही चल पड़े।

कहीं न कहीं हमारे “समाज की हकीकत ” उभर कर सामने आयी है।ये भ्रम टूटना भी जरूरी था बहुत ऊँचा उड़े थे अब ज़मीन पर आना भी ज़रूरी था। कुछ लोग भूख से मरे कुछ ‘depression’ का शिकार बने तो कुछ बीमारी (CORONA) के।

वहीं दूसरी तरफ कुछ लोगों ने नौकरी बदली कुछ लोगों ने stream। कुछ बस ठगे से रह गए की न ऐसा और न वैसा।कुछों ने नए कोर्स किये कुछों ने नए source दिए ,मित्रों भी पराया हुआ और टिक-टॉक को हराया ना गया।

दुनिया फिर # पर चलती रही कभी सोनू तो कभी किसी और ने # में जगह बनाया।

Post CORONA

Post CORONA ज़िंदगी बदल जाएगी अगर ऐसा सोच रहे हो तो बता दें ऐसा कुछ नहीं होगा लोग फिर पहले की तरह बेरहम हो जायेंगे ।

फिर उस race का हिस्सा हो जायेंगे ये सब बस किस्से हो जायेंगे और लोगों के तोर तरिके वही सब पुराने हो जायेंगे।

फिर दो रोटी की लड़ाई से ऊपर उठ कर parking की लड़ाई होगी। बचा लो की जगह चाचा विधायक हैं हमारे की आवाज़ होगी

हो सकता हे अपने देश का उत्पादन बढ़े क्योंकि आत्मनिर्भर भारत का सपना है, प्लान तो कुछ है नहीं पर भरोसा अपना है। हम चीन को पीछे छोड़ेंगे बस अब ऐसे ही दौड़ेंगे।

हम आप क्या करें?

हम आप क्या करें पहला तो अफवाह से बचें दूसरा चैनल बदलें जहां भी सुनाई दे हिन्दू युवक, मुसलमान युवक वहीं चैनल बदल दें।

बाहरी वायरस का पता नहीं अंदरूनी वायरस को हराएँ चलो एक जुट हो कर देश को आगे ले जाएँ। बाकि मास्क पहन कर रखें हाथ समय समय पर धोते रहें।

उचित दूरी बना के रखें बीमारी से भी और कुरीति से भी।

खाने पीने का ध्यान रखें सेहत का ध्यान रखें।

गरीबों को अनदेखा न करें हो सके तो मदद जरूर करें। सरकार की सुने ।

इसे आगे शेयर करें लोगों को जागरूक करें।

और हाँ दूरी मानशिक ना हो ध्यान रखें डिप्रेस फील करें तो तुरनत दोस्त को कॉल करें। हमें लिखें। नया कुछ start करें। ज्यादा समाचार ना देखें। शांत रहें।

कबीर के दोहे पढ़ें

कैसे करें घर पर उपचार?

अगर आप को लग रहा है हल्का बुखार तो बाहर मत घूमो मेरे यार खुद को करो बंद और लगाओ नंबर डॉक्टर का ज्यादा तकलीफ लगे तो ही डॉक्टर पे जाना है बेवजह कोरोना को घर नहीं बुलाना है।

डॉक्टर जो दे दवा उसे खा लेना और बस immune सिस्टम अच्छा हो इसके लिए healthy food ले लेना।

हॉस्पिटल में ज्यादा कुछ नहीं हो रहा बस खाने पीने का ध्यान दे रहे हैं और अलग अलग दवाई दे रहे हैं जो आप घर पर ले सकते हो बस हाँ oxyezon हॉस्पिटल में ज्यादा जरूरी होने पर दे रहे हैं। तो ज्यादा लगेगा तो डॉक्टर आप को भर्ती ही करेंगे।

क्या CORONA दो बार भी हो सकता है ?

एक research की मानें तो यह बिल्कुल possible है। आपके शरीर द्वारा बनाये गए antibodies जल्द ही खत्म हो जाते हैं और आप दोबारा CORONA ग्रस्त हो सकते हैं।

पर दूसरी बार recovery रेट भी अच्छा होता है।

आप को CORONA A-Z  केसा लगा कृपया आप हमें बताएं, साथ ही बताएं की हमने क्या छोड़ दिया है जिसके बारे में आप जान ना चाहते हैं।