Home स्वास्थ High BP Kya Hai ? || 10 Diet For High BP in...

High BP Kya Hai ? || 10 Diet For High BP in Hindi || High BP Symptoms In Hindi

High BP Kya Hai ? क्या है High BP Symptoms In Hindi? कौन से 10 Diet फ़ूड For High BP in Hindi ?

आज हम कोशिश करेंगे इन सवालों के जवाबों को ढूंढने की।

तो चलिए समझते हैं एक ऐसी बीमारी की जो बहुत ज्यादा जानलेवा और काफी महंगी बन सकती है , पर उसका इलाज है आपके किचन में।

High Bp Kya Hai ?

जब हमारी धमनियों (arteries) में खून का प्रेशर बढ़ता है, तो हमारे दिल को जरूरत से ज्यादा काम करना पड़ता है।

इसकी वजह से हमारे दिल पर एक्सट्रा प्रेशर पड़ता है, इस एक्स्ट्रा प्रेशर को High BP या Hypertension कहते हैं।

साधारण शब्दों में जब हमारे शरीर में रक्त का बहाव होता है, तो हमारी धमनियों की दीवारों पर बल लगता है। धमनियों की दीवारों पर लगने वाले इस बल को रक्तचाप (blood-pressure) कहते हैं।

अगर यह बल सामान्य से तेज हो तो उसे High blood pressure कहते हैं। पर अगर इसके विपरीत यह बल सामान्य से कम हो तो इसे Low Blood Pressure कहते हैं।

High Bp Kya Hai ये समझने के बाद ये भी समझ लेना जरूरी है की High BP का पता कैसे लगाते हैं।

Kaise Check Kare High BP ? ब्लड प्रेशर कितना होना चाहिए ?

आमतौर पर आप जब भी डॉक्टर के पास जाते हैं तो वो पहले आप का BP ही चेक करते हैं।  पर आप इसे घर पर भी चेक कर सकते हैं।

एक नॉर्मल व्यक्ति का BP लेवल 120/80 (सिस्टोलिक/डायस्टोलिक) होता है।

जिसमें

सिस्टोलिक (systolic pressure ) – वह प्रेशर जिसके द्वारा आपका दिल रक्त को बाहर निकालकर शरीर में पहुँचाता है।

डायस्टोलिक (diastolic pressure) – वह प्रेशर जिसके द्वारा आपका दिल रक्त को वापस भरता है।

अगर आप का ब्लड प्रेशर 130 /85 से ज्यादा होता है तो आप High BP से ग्रसित हैं।  तुरंत अपने दिल का और अपना ख्याल रखें।

Type Of BP High Kya Hai

वैसे BP को 5 categories में बांटा जाता है

स्वास्थ्या:- अगर आप का BP 120/80 होता है तो उसे नॉर्मल BP कहते हैं।

Elevated :- अगर सिस्टोलिक 120 से 129 के बीच वा डायस्टोलिक 80 से कम होता है तो आम तौर पर यह खराब जीवनशैली की वजह से होता है।

ऐसे में डॉक्टर आप को अपने जीवनशैली में बदलाव करने को कहते हैं।

Stage 1 Hypertension:- अगर सिस्टोलिक 130 से 139 और अगर डायस्टोलिक 80 से 89 के बीच हो तो इसे Stage 1 hypertension कहते हैं।

Stage 2 Hypertension: अगर सिस्टोलिक 140 या उस से ज्यादा हो और डायस्टोलिक 90 या उस से ज्यादा हो तो उसे Stage 2 hypertension कहते हैं।

Hypertensive crisis: यह सबसे घातक सिचुएशन होती है। अगर सिस्टोलिक 180 से ज्यादा हो और डायस्टोलिक 120 से ज्यादा हो तो यह एक चिंता का विषय है।  तुरंत डॉक्टर को दिखाएँ।

Buy Digital Automatic Blood Pressure Monitor

BP high kaise hota hai / High Blood Pressure Causes in Hindi

वैसे तो High BP के मुख्य कारण असंतुलित खाना और खराब जीवनशैली है पर ये कुछ निम्न कारणों से भी हो सकता है।

– मोटापा
– शारीरिक श्रम ना करना
– पहले से किसी ऐसी बीमारी से ग्रसित होना जो रक्त धमनियों को कमज़ोर करते हैं जैसे शुगर ,थायरॉयड, हार्ट की बिमारी आदि।
– ज्यादा नमकीन या तला भुना खाना
– फ़ास्ट फ़ूड
– नशा करना
– तनाव
– नींद की कमी
– प्रेगनेंसी
– जेनेटिक ( परिवारिक)
– कुछ दवाइयां भी High BP का कारण बन सकती हैं

तो High BP से बचने के लिए आप अपनी जीवन शैली को सुधार सकते हैं। आप अगर समय पे खाएं समय पे सोएं तो चान्सेस बहुत ज्यादा हैं की आप को High BP छू नहीं पायेगा।

उम्मीद है अब आप समझ गए होंगे की High BP Kya Hai ? BP high kaise hota hai या  High Blood Pressure Causes in Hindi तो आगे बात करते हैं high BP symptoms in hindi  अगर आप को भी दिखें ये symptoms तो एक बार BP चेक कर लें।

High BP Symptoms in Hindi 

– सर में दर्द / सर भारी लगना
– सीने में दर्द
– चक्कर आना
– उल्‍टी और बेचैनी सा होना
– घबराहट
– थकान
– नींद की कमी
– आँखों की रौशनी पे असर
– नाक से खून निकलना
– कमजोरी महसूस करना

तो अगर आप को भी ये सब फील हो रहा है तो ये High BP के symptoms (in Hindi ) हो सकते हैं।  तुरंत ही अपना BP चेक कराएं और नीचे बताये तरिके अपनाएँ।

Dangers and side effects of hypertension / High BP ke prabhav

high BP को साइलेंट क्लिर भी कहते हैं क्योंकि अगर इसका समय पर इलाज नहीं कराया गया तो ये बहुत से नुकशान कर सकता है।

धमनियों पर प्रभाव (Dangers and side effects of hypertension in arteries in hindi)

High BP की वजह से हमारी धमनियों की दीवारों पे रक्त का दबाव बढ़ता है।  इसकी वजह से धमनियों की अंदरूनी परत की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है।

जब आप खाने में वसा आदि लेते हो तो ये आपके रक्तप्रवाह में प्रवेश करते हैं। इनके प्रवेश करने से आपकी धमनियों में डैमेज्ड एकत्र होने लगते हैं।

जिस कारण आर्टरीज वॉल्स की इलास्टिसिटी कम होती है।  इसकी वजह से आपके पूरे शरीर में रक्त प्रवाह सीमित हो जाता है।

पुरे शरीर में रक्त पहुंचाने के लिए जब रक्त का प्रेशर आपकी आर्टरीज वॉल को पुश करता है।

तो वह कमजोर हो जाती हैं और यदि ऐसा ही चलता रहा तो वो टूट भी सकती हैं। इसकी वजह से काफी गंभीर समस्या हो सकती है।

High BP का ह्रदय पे असर (High BP ke prabhav Dil pe)

High BP  के कारण सीने में दर्द होता है।

इसकी वजह से दिल का दौरा हो सकता है। साथ ही high BP के कारण धीरे-धीरे व्यक्ति का हृदय काफी कमजोर हो जाता है।

यह इतना कमज़ोर हो जाता है की ढंग से रक्त पंप करने में सक्षम नहीं रहता जिस से हार्ट फेल होने की संभावना भी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।

High BP का मस्तिष्क पर प्रभाव (Dangers and side effects of hypertension on the mind in Hindi )

High BP के कारण दिमाग में रक्त का प्रवाह कम होने लगता है।

इसका परिणाम कमजोर याददाश्त। साथ ही सोचने में समस्या होती है और फोकस बहुत ज्यादा कम हो जाता है।

आगे चल के यह स्ट्रोक का कारण बन सकता है।

आंखों पर प्रभाव (High BP ke prabhav Dil pe)

High BP के कारण आप  आंखों की नशों पर भी प्रभाव पड़ता है।  जिस कारण व्यक्ति को दिखना कम या बंद हो जाता है।

हड्डियों (Dangers and side effects of high BP on the Bones in Hindi )

High BP  के कारण यूरिन में कैल्शियम की मात्रा को बढ़ा जाती है। जिसके कारण हड्डियाँ कमजोर होने लगती हैं।

प्रजनन प्रणाली पर प्रभाव

High BP प्रजनन प्रणाली को भी प्रभावित करती है। दरअसल, आपके यौन अंग उत्तेजना के दौरान अतिरिक्त रक्त प्रवाह का उपयोग करते हैं।

जब उच्च रक्तचाप के कारण लिंग या योनि तक जाने वाली रक्त वाहिकाओं में रुकावट होती है।

इसकी वजह से यौन समस्याएं हो सकती हैं जैसे उत्तेजना में कमी या योनि का सूखापन आदि।

तो ये थे कुछ Dangers and side effects of hypertension उम्मीद करता हूँ अब आप समझ गए होंगे की क्यों आप को High BP से छुटकारा चाहिए।

High Blood Pressure Treatment

इसे हम हमेशा की तरह 2 पार्ट में समझेंगे

  • High BP ke gharelu nuskhe /Diet for high BP in Hindi / What To Eat To Control Blood Pressure
  • Lifestyle for high BP

तो चलिए एक एक कर के समझते हैं।

High BP ke gharelu nuskhe /Diet for high BP in Hindi / What To Eat To Control Blood Pressure

हरी सब्ज़ि

आपको अपने खाने में हरी पत्तेदार सब्जियाँ शामिल करनी चाहिए। हरी सब्जियों में बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं।

हरी सब्ज़ी ना सिर्फ High BP के लिए बल्कि संपूर्ण शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

हरी सब्ज़ी में पोटेशियम पाया जाता है, पोटेशियम शरीर में सोडियम की मात्रा को नियंत्रित करता है।  सोडियम High BP का मुख्य कारण होता है।

चकुंदर

चकुंदर में नाइट्रिक औक्साइड पाया जाता है जो रक्त कोशिकाओं को फैलने में मदद करते हैं।

जैसा की हमने बताया था High BP में रक्त का परवाह कम हो जाता है और हमारी रक्त धमनियाँ /कोशिकाएं फेल नहीं पाती।

अगर आप चकुंदर का सेवन करते हैं तो आप को इस से निजात मिल जाता है।

कुछ रिसर्च में यह बात प्रूव भी हुयी है।  जहां कुछ लोगों को दो सफ्ताह तक चुकंदर का जूस दिया गया और उनका BP सामान्य हो गया।

डार्क चॉकलेट

कुछ रिसर्च में पाया गया है की डार्क चॉकलेट में पाए जाने वाले एंटीऑक्सिडेंट और पॉलीफेनोल्स BP को कम करने में मदद करते हैं।

साथ ही डार्क चॉकलेट LDL cholesterol को भी कम करती हैं, जिस से आप का दिल हैल्थी होता है ।

खट्टे फल (विटामिन C )

खट्टे फल जैसे नींबू, संतरा आदि जो की Vitamin C के स्रोत होते हैं, में ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने की अचूक क्षमता पायी जाती है।

अगर आप को हाई ब्लड प्रेशर के सिम्टम्स दिख रहे हैं तो आप तुरंत एक गिलास निम्बू पानी पी सकते हैं।

कद्दू 

कद्दू में भरपूर मात्रा में मैग्नीशियम, पोटैशियम, अर्जीनीन और अमीनो एसिड पाया जाता है।

यह सब मिल के BP को कम करने में मदद करते हैं खासतौर पर पोटैशियम।

आप ना सिर्फ कद्दू बल्कि कद्दू के बीजों का भी सेवन कर सकते हैं।

पिस्ता

यूँ तो पिस्ता आप के शरीर के लिए बहुत अच्छा होता है, क्योंकि इसमें फाइबर, प्रोटीन, विटामिन सी, जिंक, कॉपर, पोटैशियम, आयरन, कैल्शियम और कई तरह के आवश्यक विटामिन्स मिल जाते हैं।

पर क्या आप को पता है पिस्ता आप के बढ़े हुए BP को कम कर सकता है ?

क्योंकि पिस्ता में  विटामिन सी और पोटैशियम अच्छी मात्रा में मिल जाते हैं इसलिए ये आप को High BP से निज़ात दिलाने के लिए बहुत कारगर होता है।

ध्यान रखें पिस्ता अनसाल्टेड (बिना नमक वाला ) ही खाएं।

दही

दही तो आप को अपनी प्लेट में रखनी ही चाहिए। यह आप के सम्पूर्ण स्वास्थ के लिए बहुत जरूरी है। पर क्या आप जानते हैं दही आप को high BP से भी निजात दिलाती है ?

जी हाँ दही कैल्शियम से भरपूर होती है, जो आप के ब्लड प्रेशर के लेवल को नियंत्रित करती है।

High BP से राहत पाने के लिए आप अपनी डाइट में लो फैट दही शामिल कर सकते हैं।

दलिया

दलिया एक अच्छा स्रोत है फाइबर, विटामिन व मिनरल्स का। दलिये का सेवन करने से ब्लड में लिपिट ( एक प्रकार का फैट ) की मात्रा कम होती है।

जिससे ना सिर्फ High BP कण्ट्रोल में आता है बल्कि वजन भी कम होता है।

लहसुन

लहसुन तो आप के किचन में मिल ही जाएगा।  पर क्या आप जानते हैं ? अगर आप लहसुन का सेवन रोज़ करते हैं तो कई बिमारियों से बच जाते हैं।

लहसुन  में एलिसिन नामक तत्व पाया जाता है ।

यह शरीर में हाइड्रोजन सल्फाइड के उत्पादन को संतुलित करता है साथ ही नाइट्रिक ऑक्साइड को नियंत्रित करता है।

इससे रक्त कोशिकाओं को तनाव मुक्त होने व फैलने में मदद मिलती है ।

उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए आप प्रतिदिन लहसुन की एक-दो कलियों का सेवन कर सकते हैं।

अनार

अनार एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन्स, मिनरल्स और फाइबर का अच्छा स्रोत होता है।  अनार खाने से शरीर में रक्त बढ़ता है।

अनार में पाए जाने वाले मिरल्स और एंटीऑक्सीडेंट आप को high BP से निजात दिलाते हैं।

आप एक दिन में एक ग्लास अनार के जूस का पी सकते हैं।

Lifestyle for High BP

– नमक कम ही खाएं साथ ही कच्चे नमक का सेवन कम से कम करें
-अत्याधिक चाय या कॉफी का प्रयोग नींद तो भगाती है पर साथ में high BP दे जाती है
-स्मोकिंग को कहें अलविदा
– फ़ास्ट फ़ूड ना खाएं
-बेकिंग सोड़ा का सेवन ना करें
-चटनी, आचार, अजीनोमोटो, बेंकिंग पाउडर और सॉस खाने से बचें
– हाई फैट फ़ूड खाने से बचें
-पूरी नींद लें
– गुस्से को कम करें
– ध्यान लगाएं
– एक्सरसाइज करें

ये भी पढ़ें

कितना पानी पीना चाहिए
ब्रैस्ट कैसे बढ़ाएं
पीरियड्स की 10 बातें
Diabetes
Stamina Kaise Badhaye

नोट ;- हम हमेशा सटीक जानकारी ही देना चाहते हैं , पर आप को एक बार डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लेनी चाहिए। यह बस जानकारी के लिए है।

उम्मीद करता हूँ High BP Kya Hai ? कौन से हैं वो 10 Diet फ़ूड For High BP in Hindi जो आप को अपनी प्लेट में रखने ही चाहिए। और क्या हैं High BP के Symptoms In Hindi । कोई और सवाल हो सुझाव हो तो प्लीज हमें कमेंट सेक्शन में बताएं।