Home ज्ञान क्यों मनाया जाता है विश्व बाघ दिवस | International Tiger Day 

क्यों मनाया जाता है विश्व बाघ दिवस | International Tiger Day 

विश्व बाघ दिवस | International Tiger Day 

आज जंगलो को काट कर कही उद्योग बन रहे है तो कही मकान और बस्तियां मानव अपनी तो प्रगति कर रहा है पर ये भूल गए है की इस से प्रकृति को कितना नुकसान हो रहा है | आज जंगल ख़त्म होने की कगार पर है |

ऐसे में जंगल के जानवर जाए तो जाए कहाँ जब उन का घर ही नही बचा है | कई प्रजातियां को तो  शिकार के नाम पर ही विलुप्त कर दीया हैं , और कुछ  विलुप्त होने की कगार पर है |

ऐसी ही एक प्रजाति है जो विलुप्त होने की कगार पर है | वो है बाघ(Tiger)

जो विलुप्त हो रहे है | पहले दुनियाभर भर में लगभग 100,000 बाघ (Tiger) जंगलों पर राज करते थे | 

परन्तु 21 वी सदी आते आते केवल 13 देशो में चार हजार से भी कम हो गई |इसलिए  बाघों के संरक्षण और उनकी विलुप्त हो रहीं प्रजातियों को बचाने के लिए जागरूकता फैलाने की आवश्कता है |

इसलिए 29 जुलाई को विश्व बाघ दिवस (International Tiger Day) मनाया जाता है | 

इस दिन की शुरुआत साल 2010 में हुई थी | इस में 13 देशो ने हिस्सा लिया | सभी ने लक्ष्य रखा की 2022 तक बाघों की संख्या को दोगुना किया जाएगा |

खुशी की बात है की भारत ने इस टारगेट को 2018 में ही हासिल कर लिया था |   2018 में भारत में बाघों की संख्या 2967 से ज्यादा हो चुकी थी | 



ये भी पढ़े

क्या आप जानते है अगरबत्ती क्यों है खतरनाक

कबीर के दोहे

ध्यान कैसे लगायें



अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस का इतिहास:

विश्व स्तर पर बाघों  के विलुप्त होने के बारे में जागरूकता को  बढ़ाने के लिए रूस में सेंट पीटर्सबर्ग टाइगर समिट(Saint Petersburg Tiger Summit) में 2010 में अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस की स्थापना की गई थी।

इस दिन, 13 टाइगर रेंज वाले देश Tx2 बनाने के लिए एक साथ आए, जिसका वैश्विक लक्ष्य वर्ष 2022 तक जंगली बाघों की संख्या को दोगुना करना है।

अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस का महत्व

 

 अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस का से यह हुआ की आज लोगो में जागरूकता आ गई है | वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर (WWF) के अनुसार आज बाघों की आबादी 3,900 हो गई है | WWF के अनुसार अगले कुछ सालो में ये आबादी दोगुनी हो जाएगी |

अब लोगो में जागरूकता आने लगी है | आज भारत में कई बाघ अभयारण्य (Tiger Sanctuary) हैं | जिन में लोग बाघों को देखने जाते है | 

ये  बाघ अभयारण्य (Tiger Sanctuary) हैं-

  1. जिम कॉर्बेट टाइगर रिजर्व, उत्तराखंड
  2. रणथंभौर टाइगर रिजर्व, राजस्थान
  3. बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व, मध्य प्रदेश
  4. पेरियार टाइगर रिजर्व, केरल
  5. सुंदरबन टाइगर रिजर्व, पश्चिम बंगाल

बाघों के बारे में रोचक बाते –

  •  बाघ दुनिया की सबसे बड़ी जंगली बिल्लियाँ हैं।
  • एक बाघ की दहाड़ बहुत ही तेज होती है |
  • बाघ की दहाड़ दो मील दूर तक सुनी जा सकती है | 
  • बाघ 40 मील प्रति घंटे की गति से आगे बढ़ सकते हैं।
  • बाघ का वजन 800.278 पाउंड होता है