Home ज्ञान Mahavir Jayanti Wishes 2022: भगवान महावीर की जयंती क्यों और कैसे मनाते...

Mahavir Jayanti Wishes 2022: भगवान महावीर की जयंती क्यों और कैसे मनाते हैं ?

Mahavir Jayanti Wishes :- Mahavir Jayanti इस वर्ष 14 अप्रैल को आ रही है।

इस दिन को भगवान महावीर के जन्म उत्सव के तौर पर मनाया जाता है। भगवान महावीर का जन्म बिहार के कुंडग्राम/कुंडलपुर के राज परिवार में हुआ था।

कौन थे भगवान महावीर (Bhagwan mahaveer kaun the)

भगवान महावीर के बचपन का नाम वर्धमान था। इनकी माता का नाम महारानी त्रिशाला और पिता का नाम महावीर महाराज सिद्धार्थ था जो की कुंडग्राम/कुंडलपुर पर राज करते थे । 

वर्धमान ने आत्मज्ञान की तलाश में 30 वर्ष की उम्र में ही अपना सारा राज-पाट छोड़ दिया था। 

घर छोड़ने के बाद इन्होने 12 वर्ष तक कठोर तपस्या की और दीक्षा ग्रहण की। 

कड़ी तपस्या और ध्यान के पश्चात ही भगवान महावीर को कैवल्य ज्ञान की प्राप्ति हुई और वो तीर्थंकर कहलाए

भगवान महावीर ने दुनिया को सत्य, अहिंसा के कई उपदेश दिए थे।

इन्होंने ही जैन धर्म के पंचशील सिद्धांत बताए थे जो इस प्रकार हैं

अहिंसा, सत्य, अपरिग्रह, अचौर्य (अस्तेय) और ब्रह्मचर्य।

भगवान महावीर को जैन धर्म के 24 वें तीर्थंकर के रूप में माना जाता है। 

तीर्थंकर उन लोगों को कहा जाता है जो अपनी इंद्रियों और भावनाओं पर पूरी तरह से विजय प्राप्त कर लेते हैं। 

तो आइए जानते हैं कैसे मनाई जाती है महावीर जयंती (kaise manai jati hai mahavir jayanti)।

इस तरह मनाएं महावीर जयंती (kaise manai jati hai mahavir jayanti):

इस दिन देशभर के जैन मंदिरों में पूजा , प्राथना की जाती है और शोभा यात्राएं निकाली जाती हैं। 

इस दिन जैन समुदाय के लोग स्वामी महावीर के जन्म की खुशियां मनाते हैं और इनके द्वारा दिए गए ज्ञान को लोगों तक पहुंचाते हैं । 

महावीर जयंती का मुहूर्त (Mhaveer jayanti ka muhurt )

महावीर जयंती त्रयोदशी तिथि का आरंभ सुबह 4 बजकर 49 मिनट से शुरू होगा । जबकि त्रयोदशी तिथि का समापन 15 अप्रैल, 2022 की सुबह 3 बजकर 55 मिनट पर होगा।

महावीर जयंती की शुभकामनाएं Mahavir Jayanti 2022 Wishes in Hindi 

 तो आप भी अपनों को दें महावीर जयंती की शुभकामनाएं Mahavir Jayanti 2022 Wishes in Hindi 


 क्रोध को शांति से जीतें,
दुष्ट को साधुता से जीतें,
कृपण को दान से जीतें
और असत्य को सत्य से जीतें.


भगवान वर्धमान महावीर
दें आपको ज्ञान का वरदान
महावीर जयंती की शुभकामनाएं
सत्य” ”अहिंसा” धर्म हमारा,
”नवकार” हमारी शान है,
”महावीर” जैसा नायक पाया….
”जैन हमारी पहचान है.”


महावीर है जिनका नाम
अहिंसा जिनका है नारा
ऐसे त्रिशला नंदन को
लाखों बार प्रणाम है हमारा


भगवान महावीर को खोजने कहां जाएं
हम भला उनको कहां पाएं
चलो उनके बताए सत्‍य के मार्ग पर
भगवान महावीर तुम्हारे पास स्वयं चले आएंगे


भगवान का अलग से कोई अस्तित्व नहीं है,
हर कोई सही दिशा में सर्वोच्च प्रयास कर
के देवत्त्व प्राप्त कर सकता है



किसी आत्मा की सबसे बड़ी गलती
अपने असल रूप को ना पहचानना है ,
और यह केवल आत्म ज्ञान प्राप्त कर के ठीक की जा सकती है


सेवा- श्रवण कुमार से, मित्रता- कृष्ण भगवान से
मर्यादा-श्रीराम से, लक्ष्य-एकलव्य से
अहिंसा- गौतम बुद्ध से, तपस्या- महावीर से
सेवा सीखनी हो तो श्रवण से सीखो
मर्यादा सीखनी हो तो राम से सीखो
अहिंसा सीखनी हो तो बुद्ध से सीखो
मित्रता सीखनी हो तो भगवान कृष्ण से सीखो
लक्ष्य सीखनी हो तो एकलव्य से सीखो
दान सीखनी हो तो कर्ण से सीखो
और तपस्यासीखनी हो तो महावीर से सीखो


 आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है
असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं ,
वो शत्रु हैं क्रोध , घमंड , लालच ,आसक्ति और नफरत


सिद्धों का सार,
आचार्यों का साथ,
साधुओं का साथ,
अहिंसा का प्रचार,
यही है भगवान महावीर का सार


Mahavir Jayanti Wishes 2022 में आप अपने कमेंट लिख के अपनी यादें शेयर कर सकते हैं।