Home ज्ञान Marketing क्या हैं और इस के तरीके क्या है ?

Marketing क्या हैं और इस के तरीके क्या है ?

Marketing

आज कल हर किसी को अपना बिज़नेस स्टार्ट करना है पर क्या करें कैसे करें नहीं पता होता ऐसे में या तो लोग ऑनलाइन हेल्प लेते हैं या फिर किसी की सुन लेते हैं। ऐसे में हम बिज़नेस तो स्टार्ट कर देते हैं पर समझ ही नहीं आता की इसे बेचे कहाँ ? कहाँ मिलेंगे इसके लिए कस्टमर ? ऐसे में अगर आप सही जगह और सही Marketing Strategy लगा लेते हैं इसलिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है की आप सबसे बढ़िया Marketing Strategy अपनाएं।

तो आज हम बात करेंगे Marketing kya hai, Type of Marketing , 2022 Top Best Marketing Strategy Tips in Hindi

मार्केटिंग क्या है ?

मार्केटिंग एक ऐसी तकनीक जिसमें आप अपने प्रोडक्ट्स के लिए सही कस्टमर ढूंढ लेते हैं या ऐसा कहें की आप अपने प्रोडक्ट्स को कस्टमर तक पहुंचाते हैं। किसी भी बिज़नेस के सक्सेसफुल होने के लिए बेहतरीन मार्केटिंग होना बहुत जरूरी है।

इसे आप ऐसे भी समझ सकते हैं की

– Boat ने महंगे महंगे एड्स बना के JBL जैसे बड़े ब्रांड की छूटी कर दी

– आज कल हर कोई फिल्म बना कर ताबढ़तौर प्रोमशन और मार्केटिंग करते हैं और अगर मार्केटिंग बहुत ज्यादा अच्छी हो तो खराब फिल्म को अच्छी ओपनिंग मिल जाती है।

इसके बाद आप समझ ही गए होंगे की मार्केटिंनग कितना जरूरी है किसी भी प्रोडक्ट के लिए।

एडवरटाइजिंग, सेलिंग और प्रमोशन तीनों ही मार्केटिंग का पार्ट हैं।

तो अब जब हम समझ गए हैं मार्केटिंग क्या है ?

 मार्केटिंग किन पॉइटंस पर निर्भर करती है ?

क्या आप को पता है अब प्रोडक्ट से पहले मार्कटिंग सोचनी पड़ती है ? अगर आप का प्रोडक्ट बहुत अच्छा है पर लोगों की पहुंच में नहीं है या लोगों को पता ही नहीं है तो यकीन मानिये आप का बिज़नेस बहुत जल्द बंद हो सकता है। इस लिए जब भी आप अपने प्रोडक्ट या सेवा को मार्किट में उतारते हैं तो आप को 6 बातों को ध्यान रखना पड़ता है, जिन्हें मार्केटिंग के 6 पी के नाम से जाना जाता है।

मार्केटिंग के 6 पी (6 P’s of Marketing ) :

  • प्रोडक्ट
  • प्राइस
  • प्लेस
  • प्रमोशन
  • पीपल
  • प्रोसेस

प्रोडक्ट :-

इसमें आप को ध्यान रखना होता है की आप का प्रोडक्ट सही कस्टमर तक पहुंचे जिसमें आप के प्रोडक्ट की क्वालिटी , पैकेजिंग , लेबलिंग आदि देखा जाता है।

प्राइस :-

एक प्रोड्कट के मार्किट में बहुत सारे सेलर्स होते हैं पर कस्टमर को जो सबसे ज्यादा चीज़ अट्रैक्ट करती है वो है प्राइस। अगर आप का प्रोडक्ट महंगे सेगमेंट में आता है और अपने प्राइस को जस्टिफाई करता है तो भी आप का प्रोडक्ट मार्किट में चल जाएगा। इस लिए हमेसा ध्यान रखें की आप के प्रतिस्पर्धी का प्राइस क्या है ? किस सेगमेंट में वो लोग डील कर रहे हैं ? आप का प्रोडक्ट उस प्राइस सेगमेंट को जस्टिफाई करता है या नहीं ?

प्लेस :-

यह वह स्थान है जहाँ से आप के प्रोडक्ट कस्टमर तक पहुंचते हैं। इस लिए प्लेस सेलेक्ट करते समय ध्यान दें की आप जहां से प्रोडक्ट बेच रहे हैं वो कस्टमर की पहुंच में हों , वहाँ कनेक्टिविटी अच्छी हो, लाइफ साइकिल ऑफ़ द प्रोडक्ट । अगर ऐसा नहीं होता तो इसका सीधा इम्पैक्ट पड़ता है आप की प्राइस पे और क्वालिटी पे ।

प्रमोशन :-

जब भी आप का प्रोडक्ट त्यार होता है यानि आप तय कर चुके हैं की आप का क्या प्रोड्कट है , इसका क्या प्राइस है और कहां और कैसे अवेलेबल है इसके बाद आती है बारी जागरूकता की यानी लोगों को कैसे बताया जाये आप के प्रोडक्ट के बारे में। इसके लिए आज कल मोस्टली डिजिटल मार्केटिंग का प्रयोग किया जाता है।

पीपल :-

यहां पीपल मतलब है आप के स्टाफ से यानी सप्लायर, डिस्ट्रीब्यूटर, होलसेलर, स्टैक होल्डर और एम्प्लाइज। आप के प्रोडक्ट की पहचान खिन्ना कहीं इन लोगों से भी होती है। अगर ये लोग अपना काम ढंग से करते हैं तो आप के प्रोड्कट की मार्किट में ना सिर्फ गुडविल बढ़ती है बल्कि जागरूकता भी बढ़ती है।

प्रोसेस :-

जब भी आप एक प्रोडक्ट बेचते हैं तो उसके बाद आप की ज़िम्मेदारी भी बढ़ जाती है यानी कस्टमर सर्विस , आफ्टर सेल्स सर्विस फीडबैक आदि। अगर आप इन सभी बातों क्या ध्यान रखते हैं तो आप का बिज़नेस गारन्टीड ना सिर्फ चलता है पर बढ़ता भी रहता है।

मार्केटिंग के कुछ तरीके

अब मार्केटिंग दो तरीके से होती है

– ऑनलाइन

– ऑफलाइन

तो चलिए बात करते हैं एक एक करके की कैसे आप अपने प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग कर सकते हैं ?

ऑफलाइन

यह सबसे पुराना तरीका है अपने प्रोडक्ट्स को प्रमोट करने का जिसमें हम लोग पोस्टर , वैन , पम्पलेट्स आदि बांटते हैं। समय के साथ ये अब बंद हो रहे हैं पर हाँ इनमें से कुछ आज भी बहुत जी ज्यादा कारगर हैं।

ऑफलाइन मार्केटिंग के प्रकार

स्टाल लगाना ;-

आप अपने प्रोडक्ट्स के बारे में जानकारी देने की लिए स्टाल लगा सकते हैं। ये आप किसी दुकान के बाहर या किसी मॉल में लगा सकते हैं। इस के द्वारा आप अपने पोटेंशियल कस्टमर पहचान कर के उन्हें फ्री सैंपल या जानकारी दे सकते हैं।

रेफरल :-

इसके तहत आप दुकान दार या किन्ही अन्य लोगों को पैसे दे सकते हैं हर एक सक्सेसफुल सेल पे। इसके लिए वो अपने कस्टमर्स को पहले आप का ही प्रोडक्ट दिखाते हैं।

करंट कस्टमर एक्सपेंशन :-

आप अपने पुराने कस्टमर्स को नए प्रोडक्ट के फ्री सैंपल दे सकते हैं जिस से वो आप के नए प्रोडक्ट्स के भी लॉयल कस्टमर बन सकते हैं।

फ्री सैंपल ;-

आप पोटेंशियल कस्टमर देख कर उन्हें फ्री सैंपल भी दे सकते हैं ताकि वो आप के लॉयल कस्टमर बनें

न्यूज़ पेपर :-

इसके लिए आप अपने बजट के हिसाब से या तो न्यूज़ पेपर में ऐड दे सकते हैं या फिर आप छोटे छोटे पैम्पलेट छपवा कर न्यूज़ पेपर वालों को दे सकते हैं।

होल्डिंग :-

आप जगह जगह पर बड़े बड़े होल्डिंग लगवा सकते हैं जिस से लोग आप तक पहुंच सकें

कस्टमर इंटरेक्शन :-

अगर आप को पता है की आप का कस्टमर बेस कहाँ है तो आप वहां जा के कस्टमर से मिल के बात कर सकते हैं। उन्हें अपने प्रोडक्ट्स के बारे में बता सकते हैं।

वर्ड ऑफ़ माउथ :-

यह सबसे अच्छा सोर्स माना जाता है प्रमोशन का क्योंकि आप के लॉयल कस्टमर आप के प्रोडक्ट्स का मुफ्त में प्रचार प्रसार करते हैं। इसके लिए आप अपने कस्टमर्स को कॉल कर के उनके फीडबैक वा रेफेरल मांग सकते हैं। जब आप ये सब कर लेंगे तो आप देखेंगे बाज़ार में आप के प्रोडक्ट्स फैलने लगेंगे पर हाँ अपना बजट देख कर ही प्रोमशन करें।

Online मार्केटिंग के प्रकार

क्योंकि COVID के बाद से सब चीज़ें ऑनलाइन ही हो रही हैं इस लिए अब ऑनलाइन प्रमोशन पे ज्यादा ध्यान दिया जाता है। इसके काफी कारण है जैसे

– आप का प्रोडक्ट उन्ही लोगों को दिखाया जाता है जो पोटेंशियल buyer होते हैं

– कम बजट में मार्केटिंग

पेड मीडिया एडवरटाइजिंग

ऑनलाइन प्रोडक्ट बेचने के लिए यह सबसे पुराना तरीका है। अगर आप का बजट ज्यादा है और अगर आप अपने बिज़नेस का प्रचार बहुत तेजी से करना चाहतें हैं तो पेड मीडिया आपके लिए सबसे बेहतरीन है। हाँ पर आप के पैसे बहुत ही जल्द रिकवर भी हो जाते हैं। इसके निम्न प्रकार हैं।

  • डिस्प्ले एडवरटाइजिंग
  • टीवी, रेडिओ
  • बिलबोर्ड्स

यूट्यूब / सोशल मीडिया :-

ये सबसे अच्छा और बेहतरीन तरीका है अपने प्रोडक्ट ना सिर्फ लॉन्च करने का बल्कि एक्स्ट्रा इनकम का भी। आप अपने प्रोडक्ट का पेज बना सकते हैं जहां ऐड के थ्रू आप को एक्स्ट्रा इनकम भी होगी।



ये भी पढ़े

टेलीग्राम से पैसे कैसे कमाए ?

ऑनलाइन कैसे कमाए
यूट्यूब से कमाएं



तो प्रमोशन का प्रमोशन इनकम का इनकम

साथ ही अगर आप इन माध्यमों में ऐड देते हैं तो सिर्फ उन्ही कस्टमर को ऐड दिखाया जाता है जो उस प्रोडक्ट में रूचि रखते हैं और ये काफी सस्ते भी होते हैं।

ईमेल मार्केटिंग :-

में कभी भी इसे रेकमेंड नहीं करता अगर आप एक जनरल केटेगरी में डील कर रहे हैं तो क्योंकि भारत में ज्यादा तर लोग अपना ईमेल नहीं चेक करते

हाँ अगर आप कोई सोशल स्टेटस या हायर क्लास को टारगेट कर रहे हैं तो आप इसका यूज़ कर सकते हैं।

व्हाट्सप्प /टेलीग्राम मार्केटिंग :-

इसके लिए आप ग्रुप बना सकते हैं जहां लोग आप से जुड़ सकते हैं साथ ही आप अपने पोटेंशिअल कस्टमर को मैसेज भी कर सकते हैं।

टेलीग्राम से कैसे कमाएं लाखों

ब्लॉग :-

इसके लिए आप अपने प्रोडक्ट का पेज बना सकते हैं जहां SEO आदि मदद से आप कस्टमर ला सकते हैं।

ब्रांड प्रमोशन :-

आप सोशल मीडिया के सेलेब्रिटीज़ से उनके पेज पर खुद के प्रोडक्ट प्रमोट करवा सकते हैं।

एप्लीकेशन :-

आप अपने लिए एप्लीकेशन हैं डेवेलोप करवा सकते हैं। साथ ही आप अलग अलग एप्लीकेशन ओनर कांटेक्ट कर के वहां भी प्रोडक्ट का प्रमोशन कर सकते हैं

गूगल एडवर्ड्स :-

इसके लिए आप को बस गूगल एडवर्ड पे अकाउंट क्रिएट करना होता है बाद में अपने प्रोडक्ट /वेबसाइट /एप्लीकेशन / यूट्यूब आदि का प्रमोशन करवा सकते हैं।

उम्मीद करता हूँ मार्केटिंग कैसे करें व 2022 के मार्केटिंग के विभिन्न बेहतरीन तरीके | Marketing kya hai, type, Top Best Marketing Strategy Tips in Hindi आप को मदद करेगा

मैं आशा करती हूँ कि आपको मेरा यह Article पसंद आया होगा | यदि यह Article आपको Helpful लगा हो तो आप इस आर्टिकल को शेयर जरूर कीजिये | इसके अलावा यदि आपको कोई बात समझ न आयी हो तो आप नीचे Comment भी कर सकते हो