Home ज्ञान Negative Thinking Ka Ilaj || 12 Ways to stop Negative thinking in...

Negative Thinking Ka Ilaj || 12 Ways to stop Negative thinking in Hindi

Negative Thinking Ka Ilaj
Negative Thinking Ka Ilaj

जीवन में Negative Thinking आप को एक अंधेरे की और ले जाती है।अंधेरा धीरे- धीरे आप को खा जाता है। ऐसे में यह जरूरी है की आप की पता हो की Negative Thinking ka ilaj कैसे करें ? यहां हम आप को बताएंगे 12 Ways to stop Negative thinking in Hindi ।

जब आप इस अंधेरे में कहीं खो जाते हैं , या सही समय पर बाहर नहीं निकल पाते हैं तो आप खुद को असहाय , बेचारा , दबा , कुचला महशुश करते हैं।

यह आगे चल के डिप्रेशन का कारण बनता है। डिप्रेशन कितना खरतनाक है ? ये हमें शायद बताने की जरूरत नहीं है।

Negative thoughts kyon aate hain ?

Negative thoughts आप को अनेक कारणों से आ सकते हैं जैसे ;-

उम्मीद टूटना :- आप को उम्मीद हो की कोई आप के लिए कुछ करेगा। पर वो वैसे ना करे तो, ये आप को सोच के एक दलदल में डाल देता है।

आप के दिमाग में बहुत से ख्याल आने लगते हैं। इसमें से 90% Negative ही होते हैं।

सेल्फ कॉन्फिडेंस :- आप जब खुद को कम समझने लगते हैं तो आप का दिमाग आप को वैसे ही विचार देने लगता है। इसमें मुख्यतः Negative thoughts ही होते हैं।

जलन :- ऐसा तब होता है जब आप अपने से ज्यादा दूसरों के बारे में सोचें। सोचें मतलब भले के लिए नहीं, बल्कि ये की उनके पास ये है वो है और मेरे पास क्या है ?

धीरज :- आज कल लोगों के दुःख का मुख्य कारण है धीरज की कमी। लोगों को रिजल्ट चाहिए तुरंत कोई नहीं रुकना चाहता।

ऐसे में जब तुरंत रिजल्ट नहीं मिलता तो लोग नेगेटिव थॉट्स में चले जाते हैं।

संगत :- बड़े बूढ़े कह गए हैं ना , ” जैसे संगत वैसी रंगत” तो अगर आप नेगेटिव लोगों के साथ ही रहोगे तो 100% चान्सेस हैं की आप का दिमाग वैसा ही हो जाएगा।

निर्णय :- लोग अपने निर्णय बिना सोचे ले लेते हैं और उसके बाद समझते हैं की हुआ क्या है। पर तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। (Planning)

अब हम तो समझ गए हैं की Negative thoughts kyon aate hain पर इनका ilaj क्या है ?

Negative Thinking Ka Ilaj क्या है ? Ways to Stop Negative Thinking in Hindi ?

देखिये Negative Thinking Ka Ilaj आप को खुद ही करना पडता है। दूसरे शब्दों में आप नेगेटिव थॉट्स से तभी बाहर आ सकते हैं जब आप खुद पे काम करें।

तो यहां हम आप को बताएंगे 12 Ways to Stop Negative Thinking in Hindi ?

बाकी उन्हें अपनाएं और अपने जीवन को खुशहाल बनाएं।

वर्तमान पर ध्यान दें

Be in present यह एक ऐसा शब्द है जिस से आप आपने आज को ही नहीं कल को भी सुधार सकते हैं।

देखिये हम सब से गलतियां होती है पर उन्हें रिपीट करना आप के भविष्या को खा सकता है।

 

– गलती के चान्सेस कम हो जाते हैं। जब आप गलत ही नहीं होते तो नेगेटिव थॉट्स कम हो जाते हैं।
– आप अपनी पुरानी गलतियों पे ध्यान नहीं देते इस से नेगेटिव थॉट्स बिल्कुल कम हो जाते हैं।

संगति 

हमेशा कोशिश करें की अच्छे और पॉजिटिव लोगों के साथ रहें। ध्यान ये भी रखें की बस वो पॉजिटिव ही हों ओवर पॉजिटिव लोग भी आप को डूबा सकते हैं।

अपने आप को समझें

खुद को समझें , अपनी सोच को समझें। जहां भी आप को लगे की आप फालतू सोच रहे हैं तो खुद से पूछें “क्यों ” आप देखोगे की आप का दिमाग सही डायरेक्शन में चलने लगेगा।

साथ ही जब भी नेगेटिव थॉट्स आएंगे तो आप का मांइड अलर्ट रहेगा। इस से होगा ये की आप को बुरे ख्याल आना बंद हो जायेंगे।

ध्यान लगाएं

जब आप ध्यान लगाते हैं तो आप की बहुत सी समस्याएं सुलझ जाती हैं। इन समस्याओं में एक है दिमाग पे कण्ट्रोल।

जब आप का दिमाग आप के कण्ट्रोल में आ जाता है, तब नेगेटिव थॉट्स को उसमें जगह नहीं मिल पाती।

व्यस्त रहें

“खाली दिमाग शैतान का घर” आपने भी ये सुना ही होगा। जब आप खुद को व्यस्त (busy ) रखते हैं तो आप के दिमाग में इधर उधर के बुरे ख्याल नहीं आते हैं। साथ ही आप के स्किल सेट बढ़ जाते हैं।

किताबें पढ़ें

एक अच्छी किताब 3 दोस्तों के समान होती है। किताब पढ़ने के बहुत से फायदे हैं जो हम Best Hindi Motivational Books में पहले ही बता चुके हैं।

आप कुछ किताबें खरीद सकते हैं लाइब्रेरी से ले सकते हैं और बेस्ट मोबाइल पे किंडल डाउनलोड कीजिये और बस सुरु हो जाइये।

किंडल पे कई किताबें मुफ्त में भी उपलब्ध हैं।

उम्मीद ना लगाएं

नेगेटिव थॉट्स का एक कारण यह भी है की हम अपने बजाय दूसरों पर भरोसा/उम्मीद करने लगते हैं। जब तक वो उसे पूरा करते हैं, हमें लगता है वो इस दुनिया के बेहतर इंसानों में से हैं।

पर एक दिन वो ऐसा नहीं कर पाते तो हम फिर सोच के तूफान से घिर जाते हैं। इस तूफान में आधे थॉट्स ही नेगेटिव होते हैं।

पर अगर आप खुद के काम खुद ही कर लें या दूसरों से ज्यादा उम्मीद ना लगाएं तो आप के खुश रहने के चान्सेस बढ़ जाते हैं।

यहां ये भी सोचने लायक बात है की “सभी का अपना जीवन और अपनी समस्याएं हैं ” अन्तः समझें हर बार आपकी उम्मीद पूरी नहीं हो सकती।

हंसने वाले अनेक पर साथ देने वाला बस एक “आप खुद ” तो खुद का साथ निभाएं बेवजह किसी पे भरोसा ना जतायें।

चिंता ना करें

Negative Thinking/thoughts तभी मन में आते हैं जब आप चिंता में डूबे होते हैं। इस Negative Thinking Ka Ilaj एक ही है चिंता मुक्त बनें।

मैं समझ सकता हूँ की हम लोग जिस समय में हम रह रहे हैं चिंता मुक्त रहना थोड़ा नहीं बहुत ही ज्यादा मुश्किल है। पर चिंता करने से होगा क्या ?

सुनिए गौर गोपाल दास जी क्या कहते हैं चिंता मुक्ति का तरिका।

नयी चीज़ें सीखें

सीखने की कोई उम्र नहीं होती। हम जब से पैदा होते हैं तब से हम सीखना शुरू करते हैं और जब तक हम मर नहीं जाते तब तक हम बस सीख ही रहे होते हैं।

आप कोई स्किल सीख सकते हैं , आप कोई कोर्स कर सकते हैं।

जब आप सीखते हैं तो आप का दिमाग खुलता जाता है वो अडॉप्ट करने लगता है नई चीज़ें। ऐसे में आप को नेगेटिव थॉट्स कभी नहीं आएंगे।

क्या कहेंगे लोग

वो तो लोग हैं कुछ भी कहेंगे और तब तक कहेंगे जब तक आप को फर्क पड़ता रहेगा। तो ऐसे में या तो आप लोगों की बातें सुनकर अपना भविष्या बर्बाद कर सकते हैं , या उन्हें अनसुना कर के अपने मन की कर सकते हैं।

सुनो सबकी करो मन की

सक्सेस या फेलियर किसी भी चीज़ के आउटकम नहीं हो सकते हैं। आउटकम एक ही होता है वो है सीख (learning) तो बस शुरू हो जाइए।

श्लोक पढ़ें

आप रोज़ सुबह उठ के मोबाइल में ताका झांकी से अच्छा एक श्लोक पढ़ सकते हैं। यकीन मानिये पाजिटिविटी आप को दिखने लगेगी। Negative Thinking Ka ये रामबाण Ilaj है।

लोगों की स्टोरीज पढ़ें कैसे वो सक्सेसफुल हुए। इसमें एक किताब पढ़ सकते हैं 12 फ़ैल।

साथ ही धर्मग्रंथ गीता आदि पढ़ें।

Kabir ke dohe kalyug ke liye

खुद से बात करें

खुद को एक नवजात शिशु समझें और खुद को समझाएं। खुद के बेस्ट फ्रेंड बन के दिखाएँ। खुद को मोटिवेटेड रखें।

kam ko time pe kese khtm kren

कोई ऐसा काम नहीं जो आप नहीं कर सकते। बस खुद पे भरोसा रखें।

जैसे ही आप ये सब करेंगे तो आप पाएंगे की आप को नेगेटिव थॉट्स नहीं आएंगे।

ये थे मेरे 12 Ways to Stop Negative Thinking in Hindi आप इसमें और भी जोड़ सकते हैं कमेंट सेक्शन में।

उम्मीद करता हूँ Negative Thinking Ka Ilaj आप को मिल गया होगा। आप बाकि कुछ भी फीडबैक , जानकारी देना चाहते हैं तो कमेंट सेक्शन में दे सकते हैं।