Home संबंध Shadi Ke Golden Rules Todna mnaa hai

Shadi Ke Golden Rules Todna mnaa hai

ज़िंदगी एक सफर है, मौत इसकी “मंज़िल” है और रास्ते में जो आपके अनुभव हैं वो “खजाना” है। जिस से आप को अपना संसार ‘सजाना’ है,  इस काम में एक और साथी को आप का साथ “निभाना” है। यह वह दूरी है जो सब को तय करके जाना है, पर आपका सफर कैसा रहता है इसमें आपके ‘स्पाउस (पति या पत्नी)’ को अहम भूमिका निभाना है। तभी तो हमने ऊपर ही कहा था “Shadi Ke Golden Rules Todna mnaa hai “आप की successful shadi के लिए ।

जो मिले स्पाउस अच्छा तो जिंदगी भर “गुनगुनाना” है नहीं तो बस रोते- रोते मर ही जाना है। तो कैसे चुनें स्पाउस कैसे रखें ध्यान शादी के बाद अब सब के मन में ये  ख्याल आना है ? हमने भी कुछ शादी शुदा लोगों से पूछ के, कुछ किताबें पढ़के ये ही जाना है successful shadi के लिए Shadi Ke Golden Rules को अपनाना है।

“जो है पति – पत्नी खुश तो रौशन घराना है नहीं तो बस बुढ़ापे तक पछताना है”

अगर आप भी मारे हैं शादी के और रह गए हैं बेचारे से तो बस Shadi Ke Golden Rules पे गौर फरमाइए और अपने गृहस्त जीवन को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाइये । successful shadi का आनंद उठाइये।अपने पति या पत्नी का सुख पाइये नहीं तो 16 सोमवार को बर्बाद होते हुए देखते जाइये।

जो सोच हो आगे जाने की, उन्नति करने की तो दूर तक जाता है रिश्ता । वरना वहीं कहीं खो जाते हैं लोग रोज़मर्रा के जीवन में हंसना भूल जाते हैं लोग।  तो कुल मिला के दोनों अपना भविष्य सजाएं उसे अलग लेवल पे ले जाने के लिए प्लान बनाये।  प्लान से याद आया स्वामी .कॉम (Svamee.com)  पे हमने बताया हुआ है की प्लानिंग कैसे करें आप मदद ले सकते हैं ।

तो चलिए हम आप को बताएं Shadi Ke Golden Rules- Todna mnaa hai
1)सोच का मिलान :

आप जिस से शादी करने जा रहे हैं उसकी और आप की सोच मिलती है तो सफर आसान हो जाता है नहीं तो समझौते (compromise) पर अटक जाता है।  जब तक आप के समझौते खत्म होते हैं तब तक आधी उम्र निकल जाती है।  कभी – कभी तो इतने समझौते हो जाते हैं की एक समय बाद आप रिश्ता खत्म करने की सोच के आगे बढ़ते हो।  सोच दोनों की पूरक हो जैसा पहले भी कहा था दोनों आगे बढ़ने की सोच वाले हों तो बहुत अच्छा वरना एक आगे बढ़ने की सोचेगा दूसरा उसे पीछे खींचने की।  हो सकता है एक भगवान को माने दूसरा बिल्कुल ना माने यकीन मानिये जो दोनों माने तो बहुत बढ़िया नहीं तो राम ही जाने। पर अगर दोनों एक दूसरे की सोच को समझें तो क्या फर्क पड़ता है। बस कुछ थोपें नहीं

2)सच बोलिये :

अगर आप की शादी होने जा रही है तो जिस से भी हो रही है उसे अपनी आदतें प्राथमिकताएँ सब बताइये क्योंकि एक ना एक दिन उसे पता चलेगा ही। पर कहीं तब तक बहुत देर ना हो चुकी हो।  वैसे भी आज के लोग भावनाओं (emotions ) से परे हो चुके हैं।  एक समय तक एक व्यक्ति को बोलते हैं “ओह्ह्ह्हह मेरा बाबू में जी नहीं पाऊंगा कर सकल तुम्हारी ना देखूं “। फिर घर आ कर पता चलता है किसी डॉक्टर या अमीर का रिश्ता आया है तो भवान्यें बदल जाती है ।

ओह्ह्ह्हह सुनो तुम कुछ और देख लो कहीं और की रह चुन लो।  इसका अंत भी बड़ा दर्दनाक होता है क्योंकि किसी लालच या डर में आप पता नहीं करते की सामने वाला केसा है और अंत में बस आँशु ही बच जाते हैं।  हो सकता है हर केस में ऐसा ना हो तो भी ऐसी नौबत ही ना आने दें । प्यार को महत्व दें और जहां भी शादी कर रहे हैं वहां सचाई को महत्व दें।  सब जानें सब बताएं नहीं तो सोनू के टीटू की स्वीटी देखें। successful shadi चाहिए तो बस सच बोलते जाइये।

अब वो ध्यान दें जो पहले ही कर चुके हैं ये Shadi Ke Golden Rules आप के लिए

3) अपना ख्याल रखें :

जब आप अपना ध्यान रखते हैं तो खुद ब खुद आप का पार्टनर प्रसन्न रहता है। आप के पास जब तक कुछ होगा नहीं देने को, तब तक आप सामने वाले को ख़ुशी कैसे दोगे।  उदाहरण यदी आप अपना ध्यान नहीं रखोगे तो बीमार हो जाओगे फिर कहाँ से कमा के खाओगे और क्या खिला पाओगे।  साथ ही जो महिलाएं अपना ध्यान नहीं रखती सजने सवरने का या घर के कामों में उलझ जाती हैं । वहां ये समस्या ज्यादा आती है।  ये आदत ना सिर्फ आप के पार्टनर को बल्कि आप को भी मेन्टल स्ट्रेस से दूर रखती है। तो gym जाएँ, योग करें खुद को फिट और तंदुरुस्त रखें।  कुल मिला के अपना ख्याल रखें।

4) पूर्णतावाद (Perfectionism) को ना ढूंढें :

आप को पता है ज्यादातर शादियां बस इसी वजह से टूट जाती हैं । ज्यादातर मन मुटाव इसी बात से हो जाते हैं की “आप को ये भी नहीं आता या ये भी नहीं पता”।  हम हमेशा सीखते हैं एक छोटे बच्चे से लेकर एक बुजुर्ग तक हम सब से कुछ न कुछ सीखते ही जाते हैं।

ऐसे में जरूरी है की आप भी अपने पार्टनर को चीज़ें सिखाएं हो सकता है :आप की आवाज़ अच्छी हो पर आप को इंटरनेट नहीं चलाना आता जो आप के पार्टनर को बहुत अच्छे से आता है । तो आप मिल कर काम कर सकते हैं। चीज़ें समझ सकते हैं  और समझा सकते हैं।

5) माफ़ करें :
अगर आप दिन  भर एक दूसरे के साथ रहेंगे तो गलती होने के बहुत मौके हैं।  इसमें या तो आप रूठ सकते हैं या माफ़ कर सकते हैं। अगर आप रूठ जायेंगे तो आप का दिन खराब जाएगा और कुछ नहीं ।अन्तः आप  माफ़ कर के आगे बढ़ सकते हैं। आप माफ़ कर के देखिये यकीन मानिये आपको अच्छा लगेगा।  घर बचेगा वो अलग और आप का जीवन सुधरेगा वो अलग।

ये ना सिर्फ Shadi Ke Golden Rules हैं, बल्कि आप के जीवन में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

6) बहस से ना डरें ,इस से आगे भी ना बढ़ें :

सबसे पहले, सभी बहस करते हैं। अगर आप किसी के साथ हो तो कहीं ना कहीं आप के विचार अलग होंगे और झगड़ा होगा । इसे प्यार से सुलझाएं ये नहीं की रिश्तेदारों के सामने या बाजार में लड़ रहे हैं या फिर मोहले वालों गम गिनाये जा रहे हैं । सब को पता ना लगने दें “Yes I am having a fight today”। समझें जो आप की तरफ से 6 है वो दूसरी तरफ से 9 भी हो सकता है।

भावनाएं समझें और फिर बात करें एक दूसरे को समझाएं  की क्या करना है क्या नहीं। हमेशा ध्यान रखें बहस तक ही सीमा ठीक है अपनी बात समझाने या मानाने के लिए शारीरिक ताकत ना दिखाएँ। किसी पे हुकुम ना चलाएं प्यार करें और प्यार दिखाएँ। अब बहस हो तो बिल्कुल ना घबराएं। बाकी आगे Shadi Ke Golden Rules पढ़ते जाएँ।

7) काम में मदद करें :

ये काम तो महिलाओं का है अरे ये तो पुरुषों का है। इस सोच से बाहर निकलें एक दूसरे की मदद करें। चाहे घर का काम हो या बाजार का एक दूसरे की सहायता करें।  समझें की अगर मेरा पार्टनर व्यस्त है तो मेरा फ़र्ज़ बनता है खाना बनाने का।  अगर आप को लगता है की आप काम नहीं कर पाएंगे तो बता दें ताकि सामने वाला, वो काम कर ले।

अंत में  3 Shadi Ke Golden Rules जो हर एक रिश्ते में काम आते है जो आप के मन में बस एक दूसरे के प्रति रेस्पेक्ट और प्यार भर जाते है।

8) समय दें :

हर किसी का मूड अच्छा या खराब हो सकता है तो उसे कुछ समय दें।  हो सकता हैं बॉस से झगड़ा हुआ हो या कहीं और कुछ दिक्क्त हो समय दें उन्हें।  ऐसा भी ना हो की छोड़ ही दें अकेला पर उन्हें ठीक होने का समय दें।  आप एक हग दे सकते हैं। साथ ही उन्हें खुला उड़ने के लिए छोड़ दें ज्यादा बंदिशे ना लगाएं बस अपना भरोसा दिखाएँ।

मेरा एक दोस्त है वो भी आर्टिस्ट है, और यकीन मानिये उसकी वाइफ उसे इतना सपोर्ट करती है की वो अपने काम पर पूरा फोकस कर पाता है।  ना सिर्फ काम में बल्कि उसे अपने दोस्तों के साथ आने जाने की भी छूट हैं साथ ही मेरा दोस्त भी ऐसा ही करता है और यकीन मानिये दोनों बहुत ज्यादा खुश हैं।

9) बदलाव आएंगे :

परिवर्तन को स्वीकार करें और अपेक्षा करें क्योंकि जैसे जैसे आदमी का दिमाग खुलता है तो उसमें थोड़े बहुत बदलाव आते ही हैं।  आप में भी आये होंगे या आएंगे तो इन बदलवाओं के लिए त्यार रहें। आप अपनी अब तक की ज़िंदगी देखें कितने बदलाव आये होंगे आप को समझ आएगा। जो बदलाव अच्छा है तो चलने दें जो बदलाव अच्छा नहीं तो आपस में बात करें और आदत बदलवा दें पर कभी भी जर्बरन कुछ ना करवाएं।

ऐसा ना हो की तुम बदल गए स्वामी बोल के चले जाएँ। भरोसा रखें और साथ निभाएं।

अब Shadi Ke Golden Rules में सब लास्ट पॉइंट जो आप के जीवन को लास्ट तक सुखी रखेगा।

10) प्यार का इज़हार करें :

आप चाहे कितने ही बड़े है कितनी ही उम्र है । पर आप अपना प्यार हमेशा जताते रहिये। आप कोई गिफ्ट दे सकते हैं।  उनके लिए कुछ खाश कर सकते हैं।

काम से छूटी ले के घूमने जा सकते हैं जरूरी नहीं विदेश जाये अपने बजट को ध्यान में रख कर जाएँ। आप बाहर खाना खाने जा सकते हो आइसक्रीम खाने जा सकते हो।  कुल मिला के एक दूसरे का ध्यान रखें और साथ निभाएं तट्रस्ट बिल्ट उप करें। बस रिश्तेदारों के घर ना जाएँ ।

तो आखिर में आप बस ईमानदार रहें और बस एक स्टेप “Extra” चलें यकीन मानिये दूरी आधी लगने लगेगी और आप का जीवन सुखद बीतने लगेगा।

साथ ही अच्छे जीवन साथी की तलाश तो हमें कीजिए याद


तो आप बताइये की, कौन से Shadi Ke Golden Rules आप को पसंद आये जिन्हें आप जीवन में लाओगे और अपने जीवन को बेहतरी की और ले जाओगे। साथ ही दोस्तों को भी दे दें  successful shadi के लिए।