Home खबर  जापान के पूर्व पीएम का निधन | Shinzo Abe Death

 जापान के पूर्व पीएम का निधन | Shinzo Abe Death

यकीन नहीं होता है की जापान जैसा देश के पूर्व पीएम शिंजो आबे की हत्या कर दी गई है |

ये सुना कर जापान ही नही पूरी दुनिया सन है. दुनिया के एक विकसित देश के पूर्व प्रधानमंत्री को एक शख्स कैसे सरे आम गोली मार देता है |

जापान जैसे देश में जहां गन कल्चर नही है यहा गन रखने से पहले बहुत सी क़ानूनी करवाई होती है | तो ऐसे में ये नहीं पात की किसी ने ऐसा कैसे किया |

क्या है पूरी खबर जानते है

जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे एक चुनावी कार्यक्रम नारा शहर गए हुए थे वही पर उन पर गोली मर दी गई |

  खबरों के मुताबिक शिंजो आबे को पीछे से दो बार गोली मारी गई। जिससे उनकी मौत हो गई।

आबे की गर्दन के दाहिने हिस्से में बंदूक से गोली लगी जिससे उनके सीने में आंतरिक रूप से खून बह रहा था।

 जिससे उनकी मौत हो गई। कई घंटों की इलाज के बाद आखिरकार उनकी मौत हो गई. शिंजो आबे की मौत के बाद जापान में 9 जुलाई (शनिवार) को एक दिन के राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया गया है| पुलिस ने घटनास्थल पर ही संदिग्ध हमलावर को गिरफ्तार कर लिया।

मुख्य कैबिनेट सचिव हिरोकाजू मात्सुनो ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री आबे को सुबह करीब साढ़े 11 बजे गोली मारी गई। उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति को हिरासत में ले लिया गया है।

मौके पर मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने तुरंत संदिग्ध हमलावर को पकड़ लिया, घटनास्थल से एक हस्तनिर्मित (handmade) बंदूक बरामद की गई | 



 ये भी पढ़ें

शादी के सुनहरे नियम

लव मैरिज या अरेंज मैरिज



कौन था हमलावर

जिस ने  शिंजो आबे पर हमला किया उस व्यक्ति की पहचान तेत्सुया यामागामी के रूप में हुई उस की उम्र 41 साल बताई जा रही है।

पुलिस ने हमलावर के बारे में अधिक जानकारी नहीं दी। हालांकि, जापानी मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि संदिग्ध जापान मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स का पूर्व सदस्य है।

बताया जाता है कि इस संदिग्ध ने 2005 तक सेना में तीन साल बिताए थे। उसने गोली क्यों मारी, यह भी साफ नहीं हो सका है | 

कौन हैं शिजो आबे ?

67 साल के ​​​​​​शिंजो आबे लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी(एलडीपी) पार्टी से जुड़े हैं.  ​​​​​शिंजो आबे दो बार प्रधानमंत्री रहे| 

आबे साल 2006 में पहली बार जापान के प्रधानमंत्री पद के लिए चुने गए थे. हालांकि, अल्सरेटिव कोलाइटिस(

ulcerative colitis) नामक बिमारी से जूझते हुए आबे ने एक साल के अंदर-अंदर ही प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था |

इसके बाद आबे ने साल 2012 में दोबारा प्रधानमंत्री पद के लिए चुनाव लड़ा और चुनाव जीतने के बाद दोबारा देश की कमान संभाली. इस बाद शिंजो आबे लगातार 2803 दिनों (7 साल 6 महीने) तक जापान के प्रधानमंत्री बने रहे|

बता दें कि इससे पहले इतने लंबे समय तक प्रधानमंत्री पद पर रहने का रिकॉर्ड शिंजो के चाचा “इसाकू सैतो” के नाम था |