Home स्वास्थ Swine Flu Ke Lakshan Kya Hai

Swine Flu Ke Lakshan Kya Hai

swine flu ke lakshan kya hai

बिमारियों का दौर ही चल रहा है ऐसे में एक के बाद एक बीमारी आ रही हैं तो इस समय ये जरूरी हो जाता है की आप को पता हो की बीमारी से कैसे बचें। तो आज हम बात करेंगे एक और बीमारी swine flu की।  तो पहले बस एक सवाल क्या आप को पता है “Swine Flu Ke Lakshan Kya Hai” ?

ये भी पढ़ें

Bird Flu Kya Hai
कोरोना का इलाज

तो चलिए बात करते हैं swine flu से रिलेटेड FAQ की.

Swine flu kya hai ?



Swine flu को H1N1  फ्लू भी कहते हैं।

स्वाइन को हिन्दी में बोलते हैं सूअर क्योंकि यह बीमारी सूअरों से फैलती है तो इसे Swine flu कहते हैं।

Swine flu RNA वायरस है।

ये आपकी बॉडी  के एक सेल पे हमला कर धीरे धीरे अपना इलाका फैलाता है और खुद की मजबूत करते जाता है।

यह घातक इस लिए है की यह सपना structure चेंज कर लेता हैं।  यानि यह खुद को अपडेट कर लेता है।

तो हो सकता है आप टेस्ट करवा लो पर ये रिपोर्ट में ना आये क्यंकि इसने अपना ढांचा बदल लिया है।

यह कम उम्र के बच्चों, बुजुर्गों तथा गर्भवती महिलाओं को जल्दी प्रभावित करता है।

अब जब बात कर ली है की Swine flu kya hai ? तो बात करते हैं swine flu kaise hota h ?

आप विकिपीडिया भी पढ़ सकते है



Swine Flu Kaise Hota hai ?

Swine flu kaise hota hai ? या Swine flu kaise felta hai ?

इसकी शुरुआत में तो यह सुवरों से इंसानों में फैला था पर अब यह  इंसानों से इंसानों में फेल जाता है।

Swine Flu का वायरस बहुत ही ज्यादा एक्टिव होता है और ये बहुत ही आसानी से एक शरीर से दूसरे शरीर में फेल जाता है।

– जब भी कोई व्यक्ति रोगी व्यक्ति के कांटेक्ट में आता है तो वो इस बीमारी की चपेट में आ जाता है।

– जब भी कोई ऐसी सतह को छूता जिसे पहले स्वाइन फ्लू के रोगी ने टच किया हो।

स्वाइन फ्लू का मरीज़ जब भी किसी चीज़ को छूता है तो यह वायरस उस व्यक्ति से होता हुआ उस वस्तु को भी संक्रमित कर देता है।  ऐसे में कोई भी उसे छू ले तो वह बीमार हो जाता है।

– जब भी संक्रमित व्यक्ति खुले में खांसे या छींके।  वायरस हवा में मिल के पास खड़े व्यक्तियों के शरीर में प्रवेश कर जाता है।



Swine Flu Ke Lakshan Kya Hai

एक व्यक्ति में swine flu ke lakshan संक्रमित होने के बाद 1-7 दिन के अंदर देखे जा सकते हैं।

इसके मुख्य लक्षण निम्न हैं :-

– नाक से पानी बहना या बंद हो जाना
– गले में खराश या खीच खीच
– सर्दी-खांसी
– बुखार
– सर में तथा शरीर में दर्द
– थकान लगना
– पेट में  दर्द
– संक्रमित व्यक्ति को दस्त और उल्टी भी हो सकता है



Swine flu ka test या  h1n1 test कैसे करें

देखिये अगर ऊपर दिए लक्षण आप में है तो  आप घबराएं नहीं डॉक्टर को दिखाएँ।

डॉक्टर आप का rapid influenza diagnostic test करेंगे ताकि पता लग सके की आप को स्वाइन फ्लू है या नहीं।

इस टेस्ट में डॉक्टर आप के नाक और गले से सैंपल कलेक्ट कर के उनकी जाँच करते हैं।

इसका रिजल्ट आप को 10 से 20 मिनट में मिल जाता है।



Swine flu se kese bchen (Prevention of swine flu in hindi)

देखिये इसके 2 तरिके हैं एक तो घरेलू और एक डॉक्टर द्वारा सुझाया हुआ।  हम तो ये ही कहेंगे की आप डॉक्टर को कंसल्ट करें।

Swine flu treatment at home in hindi

किसी भी बीमारी को एक ही चीज़ से ठीक किया जा सकता है वो है भोजन से और अपनी दिनचर्या से।

– अपने भोजन में विटामिन C को स्पेशल जगह दें।
– बाहर का या कुछ भी unhealthy ना खाएं।
– खूब पानी पियें।
– अच्छी नींद लें।
– ज्यादा स्ट्रेस ना लें (Depression ka kaam tmaam)

Swine flu ke ayurvedic treatment

– गिलोय का काढ़ा रोज़ाना पियें
– तुलसी के पत्तों का सेवन करें
– काली चाय पियें
– इम्यून सिस्टम स्टोरंगे करने के लिए काढ़ा पियें।

Swine flu ki dawa ka naam

swine flu के केस में डॉक्टर निम्न dawa ka naam रेकमेंड करते हैं

-Oseltamivir (Tamiflu) ओसेल्टामिविर (टैमी फ्लू)
– Peramivir (Rapivab)  पेरामिविर  ( रेपीवेप )
– zanamivir (Relenza)  जानामीविर (रेलेंजा)

पर बिना डॉक्टर के परामर्श के कोई दवा ना लें।

Swine flu se kese bche

देखिये “Prevention is better than cure” मतलब रोकथाम इलाज से बेहतर है।

अंतः कोशिश करें

– अपने डेली रूटीन को अच्छा बनाने की मतलब ज्यादा स्ट्रेस ना ले अच्छे से रहें साफ सफाई का ध्यान रखें
– अच्छा पोस्टिक खाएं
– exercise करें
– भीड़ में जाने से बचें
– अगर भीड़ में जाना पड़े तो मुँह नाक को ढक लें
– किसी सतह को चुने से बचें
– सेनिटाइज़र साथ रखें
– हाथों को साफ किये बिना आंख नाक मुँह पे ना लगाएं
अपना ध्यान रखें 

उम्मीद करता हूँ आप समझ गए हैं swine flu ke lakshan kya hai  अगर कोई दुविधा सवाल हो तो कृपया हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं। साथ ही किसी अन्य समस्या के समाधान  के लिए हमें ना भूलें।